दीप्ति शर्मा की 'मांकडिंग' पर अब आया मुरलीधरन का बयान, अश्विन कर चुके हैं तारीफ

नई दिल्ली: भारतीय महिला क्रिकेट टीम की ऑलराउंडर दीप्ति शर्मा इंग्लैंड की बल्लेबाज को नॉन स्ट्राइक पर रन आउट (Deepti Sharma Mankading) करने वाली पहली महिला क्रिकेटर बनने के बाद सुर्ख़ियों में हैं। लॉर्ड्स में शनिवार को चार्ली डीन के क्रीज से बाहर होने पर दीप्ति शर्मा ने नॉन-स्ट्राइकर एंड पर स्टंप्स गिरा दिए थे और इस प्रकार महिला ODI क्रिकेट का ये पहला उदाहरण था, जिसमें बल्लेबाज को नॉन स्ट्राइक एंड (Deepti Sharma Mankading) पर इस प्रकार से आउट दिया गया। हालांकि, इस मामले पर तररह- तरह की प्रतिक्रियाएं सामने आ रही हैं, जिसमें अब श्रीलंका के महान फिरकी गेंदबाज़ मुथैया मुरलीधरन का नाम भी शामिल हो गया है।

केएल राहुल के समर्थन में उतरे गावस्कर, जानिए क्या बोले लिटिल मास्टर ?

भारतीय स्पिनर आर अश्विन, जिन्होंने IPL में इंग्लैंड के बैट्समैन जोस बटलर को भी इसी प्रकार रन आउट किया था, उन्होंने दीप्ति शर्मा के प्रेजेंस ऑफ माइंड की तारीफ करते हुए कहा है कि गेंदबाज को विकेट का क्रेडिट दिया जाना चाहिए और ब्रेवरी अवॉर्ड दिया जाना चाहिए। हो सकता है कि उन्होंने मजाक में ऐसा कहा हो, क्योंकि गेंदबाज को कभी भी रन आउट विकेट के लिए क्रेडिट नहीं दिया जाता है, मगर अश्विन (R Ashvin on Deepti Sharma Mankading) की टिप्पणी विश्व के सर्वाधिक विकेट लेने वाले मुथैया मुरलीधरन को पसंद नहीं आई। 

सोशल मीडिया पर छाया मनिंदर.. मनिंदर.. का शोर, इस शेर के पंजे से बचना डिफेंडर्स के लिए होगा मुश्किल

मुरलीधरन ने इस मामले (Muralidharan on Deepti Sharma Mankading) पर कहा है कि, 'क्या प्रेजेंस ऑफ माइंड? कोई भी क्रिकेटर अंतरराष्ट्रीय मैच नहीं खेलेगा यदि उसके पास प्रेजेंस ऑफ माइंड नहीं है। मैं दीप्ति (शर्मा) की तारीफ करता, यदि उन्होंने पहले नॉन स्ट्राइकर को चेतावनी दी होती। यह तब खेल की सही भावना में अंदर होता।' बता दें कि दीप्ति शर्मा ने खुद अपने बयान में कहा है कि उन्होंने पहले चार्ली डीन और अंपायर को इसके संबंध में चेतावनी दी हुई थी। चार्ली ने एक या दो बार नहीं, कई दफा जल्दी क्रीज छोड़ी थी।  

ब्रैंडन नकाशिमा ने जीता सैन डिएगो में पहला एटीपी टूर का खिताब

मुरली (Muralidharan on Deepti Sharma Mankading) ने आगे कहा है कि, 'हां, कानूनी तौर पर, दीप्ति शर्मा नॉन स्ट्राइकर को रन आउट करने में सही थीं और यह कानून में भी है, मगर खेल भावना के हिसाब से उचित नहीं है। सफेद गेंद का मैच एक दबाव का मैच होता है और एक मुश्किल परिस्थिति में नॉन स्ट्राइकर जल्दी क्रीज छोड़ सकता है और अगर नॉन स्ट्राइकर द्वारा यह कार्य दोहराया जाता है, मेरी राय में रन आउट सही है, अन्यथा नहीं।' यहां तक कि ICC के लिए नियम बनाने वाली संस्था मेरिलबोन क्रिकेट क्लब (MCC) ने भी इसे जायज ठहराया है।   

रोजर फेडरर के रिटायरमैंट पर दुनिया दे रही बधाई, लेकिन इस खिलाड़ी ने कह डाली बड़ी बात

ऑस्ट्रेलिया को रौंदकर टीम इंडिया ने तोड़ा पाकिस्तान का वर्ल्ड रिकॉर्ड, बनाया ये कीर्तिमान

ICC T20I Ranking में टीम इंडिया की 'बादशाहत' कायम, ऑस्ट्रेलिया को मात देकर मजबूत हुई पोजीशन

न्यूज ट्रैक वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -