RSS के बाद अब मुस्लिम संगठनों की अपील, कहा- अयोध्या मामले पर अदालत के फैसले का सम्मान करें

नई दिल्ली: मुस्लिम संगठनों के कई पदाधिकारी, मौलवी और बुद्धिजीवियों ने अयोध्या राम मंदिर मामले को लेकर शनिवार को बैठक की है. संगठनों ने कहा कि सभी को अयोध्या पर सर्वोच्च अदालत के फैसले का सम्मान करना चाहिए. ऑल इंडिया मुस्लिम मजलिस-ए-मुशावरत के अध्यक्ष नवेद हामिद द्वारा बुलाई गई मीटिंग में सर्वोच्च न्यायालय के फैसले के बाद हर कीमत पर शांति और सद्भाव कायम रखने का संकल्प लिया गया.

इससे पहले राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) की तरफ से भी कहा गया था कि सुप्रीम कोर्ट का जो भी फैसला आए उसे सभी को खुले मन से स्वीकार करना चाहिए. फैसले के बाद देशभर में वातावरण सौहार्दपूर्ण रहे, यह सबका दायित्व है. अयोध्या को लेकर मुस्लिम संगठनों की मीटिंग में जमीयत उलेमा-ए-हिंद के अध्यक्ष अरशद मदनी, राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के पूर्व अध्यक्ष वजाहत हबीबुल्ला, पूर्व सांसद शाहिद सिद्दीकी, जमात-ए-इस्लाम के अध्यक्ष सआदतुल्ला हुसैनी और सांसद डॉ जावेद तथा इमरान हसन ने भी हिस्सा लिया.

बैठक में पारित एक प्रस्ताव में संकल्प लिया गया कि राम मंदिर-बाबरी मस्जिद मामले पर शीर्ष अदालत के फैसले को देश की समग्र उन्नति और विकास के संदर्भ में सकारात्मक तौर से लिया जाना चाहिए. हम सभी देशवासियों से धैर्य और धीरज के साथ हालात का सामना करने की अपील करते हैं और किसी भी किस्म के उकसावे से बचना होगा.

इस छोटे से राज्य ने बढ़ाई मोदी सरकार की मुश्किलें, सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे लोग

महाराष्ट्र में शिवसेना ने अपनाए तीखे तेवर, कहा- हम ना होते तो भाजपा को 75 सीटें भी नहीं मिलती

बैंकाक में बोले पीएम मोदी, कहा- ये भारत में निवेश करने का सबसे शानदार समय

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -