यूपी में मुस्लिम शख्स ने लगाए 'जय श्रीराम' के नारे, देवबंद ने दी इस्लाम से 'बेदखल' करने की धमकी, VIdeo

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले में आयोजित भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की रैली में एक मुस्लिम शख्स के ‘जय श्रीराम’ व ‘भारत माता की जय’ कहने पर देवबंद के उलेमाओं ने आपत्ति जताई है। देवबंद के उलेमा मुफ़्ती असद कासमी का कहना है कि इस युवक को मौलानाओं से मिलकर रुजू और अल्लाह से तौबा करना चाहिए। इस कट्टरपंथी हिदायत से बेफिक्र युवक अहसान राव ने कहा कि श्रीराम उनके पूर्वज हैं और उन्हें ‘जय श्रीराम’ और ‘भारत माता की जय’ बोलने में कोई समस्या नहीं है।

 

दरअसल, केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह शनिवार (4 दिसंबर) को सहारनपुर में एक रैली को संबोधित कर रहे थे। इसी दौरान एक मुस्लिम शख्स जय श्रीराम और भारत माता की जय का उद्घोष करने लगा। उसका यह वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है। इस वीडियो के सामने आने के बाद अहसान राव की धर्मनिरपेक्षता और उदारता की लोग तारीफ कर रहे हैं। वहीं, दूसरी ओर, देवबंद के उलेमा मुफ़्ती असद कासमी का कहना है कि इस्लाम में इस प्रकार के नारे लगाने की कोई गुंजाइश नहीं है। इस युवक को मौलानाओं से मिलकर रुजू करना चाहिए और अल्लाह से तौबा करना चाहिए, क्योंकि ऐसे नारे लगाने से इस्लाम से जाया (बेदखल) हो जाते हैं।

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि अपने दुनियावी आकाओं को खुश करने के लिए ऐसे नारे नहीं लगाने चाहिए। उन्होंने अहसान को इस्लाम से बेदखल करने की भी धमकी भी दी। वहीं इस प्रतिक्रिया देते हुए अहसान ने कहा है कि, 'हम राम के वंशज हैं। राम हमारे पूर्वज हैं। जय श्रीराम बोलने में या भारत माता की जय बोलने में मुझे इसमें कोई समस्या नहीं है। जिस देश में हम रह रहे हैं, उसकी जय-जयकार करनी चाहिए।'

भारत की 50 फीसदी आबादी फुली वैक्सीनेटेड, ख़ुशी से झूमे PM मोदी

'हमारे जवानों को कोई हल्के में नहीं ले', BSF स्थापना दिवस कार्यक्रम में बोले अमित शाह

देवताओं और असुरों का जिक्र.. आखिर अपना ही लिखा 'संविधान' क्यों जलाना चाहते थे बाबा साहब अंबेडकर ?

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -