बेंगलुरु दंगे के लिए कर्नाटक के सीएम से मुस्लिम नेताओं ने की ये मांग

बेंगलुरु दंगे के लिए कर्नाटक के सीएम से मुस्लिम नेताओं ने की ये मांग

बेंगलुरु दंगे का मामला दिन व दिन तीव्र होता जा रहा है। एक दर्जन से अधिक मुस्लिम मौलवियों ने मंगलवार को कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा से मुलाकात की और मांग की कि राज्य सरकार को पिछले महीने हुई डीजे हल्ली अव्यवस्था की जांच के लिए एक वस्तुनिष्ठ न्यायिक जांच आयोग का चयन करना चाहिए । अमीर-ए-शरिया कर्नाटक के मंत्री मौलाना सगीर अहमद ने सीएम को ज्ञापन सौंपा और सक्रिय रूप से अनुरोध किया कि राज्य सरकार को सोशल मीडिया साइटों पर अश्लील संदेश पोस्ट कर सांप्रदायिक घृणा फैलाने की कोशिश करने वालों पर भी लचीला काम करना चाहिए ।

जामा मस्जिद के इमाम मौलाना मकसूद इमरान रश्दी ने एक लीडिंग मीडिया हाउस से बात करते हुए राज्य सरकार से आग्रह किया कि वह इस मामले में शामिल साफ मुस्लिमों की रिहाई के लिए कदम उठाए ।  उन्होंने स्पष्ट किया, डीजे हॉल हिंसा में कथित भूमिका के लिए पुलिस ने आज तक 300 से अधिक लोगों को चुना है, लेकिन हकीकत में कई मासूम ऐसे भी हैं जिन्हें उठाया गया है। उन्होंने कहा है कि हमारी प्राथमिक मांग है की कम से कम उन्हें छोड़ दिया जाना चाहिए।

ज्ञापन में जोर देकर कहा गया है कि एक उद्देश्य न्यायिक आयोग की मांग का मुख्य उद्देश्य यह जानना है कि कांग्रेस विधायक श्रीनिवासमूर्ति के भतीजे पी नवीन को सोशल मीडिया पर इस तरह के कॉलम लगाने के लिए किसने प्रेरित किया । ज्ञापन के अनुसार, समुदाय को सक्रिय रूप से इस पूरे प्रकरण पर संदेह है कि नवीन के पीछे छिपे किसी व्यक्ति द्वारा करवाया गया है, जो राज्य में सांप्रदायिक शांति को बाधित करना चाहता था ।

सभी आठ सीटों पर उपचुनाव लड़ेगी बसपा: मायावती

कोरोना की चपेट में आए येदियुरप्पा सरकार के दो मंत्री

लड़ाकू विमानों ने सैन्य लक्ष्य पर हवाई हमले के साथ दिया जवाब