'मुंज्या' ने शनिवार को दिखाया अपना जादू, कमाई में हुआ था जबर्दस्त उछाल, जानिए दूसरे दिन का कलेक्शन

'मुंज्या' ने शनिवार को दिखाया अपना जादू, कमाई में हुआ था जबर्दस्त उछाल, जानिए दूसरे दिन का कलेक्शन
Share:

शरवरी वाघ और अभय वर्मा अभिनीत हॉरर-कॉमेडी फिल्म 'मुंजा' को रिलीज के बाद से ही दर्शकों से सकारात्मक प्रतिक्रिया मिल रही है। शुक्रवार को रिलीज हुई इस फिल्म की कहानी ने प्रशंसकों को आकर्षित किया है। फिल्म को रिलीज हुए दो दिन हो चुके हैं, तो आइए एक नजर डालते हैं दूसरे दिन 'मुंजा' ने बॉक्स ऑफिस पर कितना कलेक्शन किया।

'मुंजा' का दूसरे दिन का कलेक्शन

'मुंजा' के ट्रेलर को काफी पसंद किया गया और निर्माताओं ने फिल्म को लगभग 1,600 स्क्रीन पर रिलीज़ किया है। हालाँकि फिल्म के बारे में चर्चा अभी चरम पर नहीं है, लेकिन उम्मीद है कि आने वाले दिनों में सकारात्मक प्रचार-प्रसार से और अधिक दर्शक आकर्षित होंगे। पहले दिन का कलेक्शन काफी प्रभावशाली रहा और अब दूसरे दिन की कमाई की रिपोर्ट आ गई है।

सैकनिल्क के आंकड़ों के अनुसार, 'मुंजा' ने पहले दिन 4.21 करोड़ रुपये कमाए। अब दूसरे दिन के आंकड़े आ गए हैं और 'मुंजा' ने 6.75 करोड़ रुपये कमाए हैं। इस तरह फिल्म की कुल कमाई दो दिनों में 10.75 करोड़ रुपये हो गई है।

भारत की पहली कंप्यूटर जनित इमेजरी फिल्म

कई मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार 'मुंजा' का बजट 30 करोड़ रुपये था। अगर फिल्म अपनी मौजूदा गति बनाए रखती है, तो उम्मीद है कि सप्ताहांत के अंत तक यह अपने बजट के करीब पहुंच जाएगी। उल्लेखनीय है कि 'मुंजा' भारत की पहली CGI (कंप्यूटर जेनरेटेड इमेजरी) फिल्म है, जो भारतीय फिल्म उद्योग में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है।

फिल्म की कहानी दर्शकों को पसंद आई

'मुंजा' की अवधि 2 घंटे और 3 मिनट है और इसे सेंसर बोर्ड से U/A सर्टिफिकेट मिला है। फिल्म में बड़ी कास्ट नहीं है, जिससे मेकर्स को कहानी और अन्य तत्वों पर अधिक ध्यान केंद्रित करने का मौका मिला। यह फोकस रंग लाया है, क्योंकि दर्शक फिल्म का भरपूर आनंद ले रहे हैं। ट्रेंडिंग पॉजिटिव रिव्यू और बेहतरीन वर्ड-ऑफ-माउथ की बदौलत फिल्म का कुल कलेक्शन ₹10 करोड़ से अधिक हो गया है। यह देखना दिलचस्प होगा कि शरवरी वाघ की फिल्म अपने पहले हफ़्ते में बॉक्स ऑफिस पर कैसा प्रदर्शन करती है।

फिल्म का कथानक

कहानी 1952 में सेट की गई है, जहाँ एक लड़के को मुन्नी से शादी करने से मना कर दिया जाता है, जो उससे सात साल बड़ी लड़की है। लड़के का सिर जबरन मुंडवा दिया जाता है, और मुन्नी की शादी किसी और से करवा दी जाती है। उस रात, लड़का अपनी बहन के साथ पीपल के पेड़ के नीचे काला जादू करता है। सिर मुंडवाए जाने के कारण लड़के की मौत हो जाती है, जिसके कारण वह 'मुंजा' में बदल जाता है, जो एक राक्षस है जो मुन्नी की तलाश में अपने ही परिवार को परेशान करता है।

दर्शकों का स्वागत और भविष्य की संभावनाएं

'मुंजा' ने अपनी अनूठी कहानी और सीजीआई प्रभावों के लिए ध्यान आकर्षित किया है, जिससे यह हॉरर-कॉमेडी शैली में एक अलग पहचान बना रही है। शुरुआती प्रतिक्रिया बेहद सकारात्मक रही है, जो इसके दर्शकों के आधार में वृद्धि की प्रबल संभावना को दर्शाता है। जैसे-जैसे लोगों की जुबानी चर्चा बढ़ती जा रही है, उम्मीद है कि यह फिल्म सिनेमाघरों में और भी अधिक भीड़ खींचेगी।

कलाकार और क्रू की मुख्य बातें

शर्वरी वाघ और अभय वर्मा ने सराहनीय अभिनय किया है, जिससे उनके किरदारों में गहराई और प्रामाणिकता आई है। निर्देशन और दृश्य प्रभावों की विशेष रूप से प्रशंसा की गई है, जिसने CGI कार्यान्वयन के मामले में भारतीय सिनेमा के लिए एक नया मानक स्थापित किया है।

बॉक्स ऑफिस भविष्यवाणियां

मौजूदा गति को देखते हुए, 'मुंजा' अगले कुछ दिनों में असाधारण प्रदर्शन करने की राह पर है। सप्ताहांत के करीब आने के साथ, यह अनुमान लगाया जा रहा है कि फिल्म के बॉक्स ऑफिस कलेक्शन में उल्लेखनीय वृद्धि होगी। अगर यह रुझान जारी रहा, तो 'मुंजा' पहले सप्ताह में ही अपने बजट से भी आगे निकल सकती है।

आलोचनात्मक प्रशंसा और समीक्षा

आलोचकों ने सीजीआई के अभिनव उपयोग और इसकी आकर्षक कथा के लिए 'मुंजा' की सराहना की है। हॉरर और कॉमेडी के मिश्रण वाली इस फिल्म ने दर्शकों को प्रभावित किया है, जो आम शैली की फिल्मों से अलग एक ताज़ा बदलाव पेश करती है। फिल्म की तकनीकी उपलब्धियों के साथ-साथ मुख्य अभिनेताओं के अभिनय की भी व्यापक रूप से सराहना की गई है।

विपणन और प्रचार

'मुंजा' की मार्केटिंग रणनीति ने इसकी शुरुआती सफलता में अहम भूमिका निभाई। बेहतरीन तरीके से तैयार किए गए ट्रेलर और रणनीतिक प्रचार ने लोगों में चर्चा पैदा की, जिसका नतीजा बॉक्स ऑफिस पर अच्छी कमाई के रूप में सामने आया। लगातार प्रचार और सकारात्मक समीक्षाओं से फिल्म की गति बरकरार रहने की उम्मीद है।

चुनौतियाँ और प्रतिस्पर्धा

अपनी मजबूत शुरुआत के बावजूद, 'मुंजा' को उसी समय रिलीज़ होने वाली अन्य फ़िल्मों से प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ रहा है। हालाँकि, इसकी अनूठी अपील और सकारात्मक स्वागत इसे प्रतिस्पर्धी बढ़त देते हैं। फ़िल्म की सफलता काफी हद तक दर्शकों की रुचि बनाए रखने और आने वाले हफ़्तों में नए दर्शकों को आकर्षित करने की इसकी क्षमता पर निर्भर करेगी। 'मुंजा' ने अपने अभिनव दृष्टिकोण और सम्मोहक कहानी के साथ उल्लेखनीय प्रभाव डाला है। जैसे-जैसे फ़िल्म दर्शकों को आकर्षित करती जा रही है, यह भारतीय सिनेमा के विकसित होते परिदृश्य का एक प्रमाण बन गई है। हॉरर और कॉमेडी के अपने सफल मिश्रण के साथ, 'मुंजा' इस शैली में एक यादगार फ़िल्म बनने के लिए तैयार है।

आईजीसीएआर में वैज्ञानिक, तकनीकी और स्वास्थ्य देखभाल के लिए निकली बंपर भर्ती

कृत्रिम वर्षा क्यों की जाती है?

अल्ट्रोज रेसर आ रही है सनसनी मचाने के लिए, इसमें पावरफुल इंजन के साथ-साथ ढेर सारे फीचर्स भी होंगे

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -