मुंबई में 'आफत' बनी बारिश, कई इलाके जलमग्न, 46 सालों का रिकॉर्ड टूटा

मुंबई: देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में बुधवार को रिकॉर्ड तोड़ने के बाद गुरुवार को सामान्य बारिश जारी  है। लोगों को घरों में रहने की हिदायत दी गई है। दोपहर 1 बजकर 51 मिनट पर हाई टाइड ने मरीन ड्राइव पर दस्तक दी। बारिश के मद्देनज़र महाराष्ट्र के कई इलाकों में NDRF की टीम तैनात की गई हैं। बता दें कि बुधवार को मुंबई में इस मौसम की सबसे अधिक बारिश दर्ज की गई है। बारिश ने पिछले 46 वर्षों का रिकॉर्ड तोड़ दिया। दक्षिण मुंबई के कई इलाकों में भी पानी भर गया था।

बुधवार को हुई बारिश से मुंबई में 112 पेड़ धराशायी हो गए। इसके साथ ही 6 इलाकों में घर ढहने की घटनाएं भी हुईं। इसमें तीन हादसे दक्षिण मुंबई में हुए। दोपहर सवा चार बजे मरीन लाइंस में 101.4 किमी प्रति घंटे की रिकॉर्ड रफ्तार के साथ हवाएं चल रही थीं। हवाओं की गति का अनुमान इसी के लगाया जा सकता है कि गडवणे जंक्शन के करीब स्थित एक ट्रैफिक पोल उखड़कर गिर गया। बुधवार की हुई बारिश के कारण गिरगांव चौपाटी, कोलाबा और भायकला जैसे इलाके भी डूब गए जो हर साल मुंबई की बारिश में बाढ़ मुक्त रहते थे। BMC अधिकारियों ने जानकारी देते हुए बताया है कि मुंबई में बुधवार को औसत से तिगुनी बारिश रिकॉर्ड की गई है।

मरीन ड्राइव के विजय महल निवासी प्रशांत अग्रवाल ने बताया है कि उन्होंने 40 वर्ष में पहली दफा ऐसी बरसात देखी है। 40 वर्षों में इस इलाके में कभी इतनी तेज रफ़्तार से हवाएं नहीं चलीं। उन्होंने बताया कि, 'इलाके में बाढ़ जैसे हालात भले ही न हों, किन्तु डी रोड पर पेड़ उखड़े पड़े थे। सिग्नल भी उखड़ गया था। मेरी दो कारें तबाह हो गईं। नारियल का पेड़ एक कार की विंडस्क्रीन और एक के बोनट पर गिर गया।'

OLA-UBER और Zomato जैसी कंपनियों के कर्मचारियों को मिलेगी पेंशन ?

50 हजार रुपए से अधिक के चेक की क्लियरिंग को लेकर RBI ने बदले नियम

NIOS ने जारी किये कक्षा 12 के परिणाम, यहाँ करें चेक

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -