मुंबई पुलिस ने सचिन-लता से जुड़े वीडियो को हटाने को कहा

May 31 2016 12:42 PM
मुंबई पुलिस ने सचिन-लता से जुड़े वीडियो को हटाने को कहा

मुंबई : एआईबी के वीडियोज हमेशा से विवादों में रहे है, लेकिन इस बार एआईबी ने संगीत जगत को स्वर कोकिला लता मंगेशकर औऱ क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर पर वीडियो बना दिए, जिससे बॉलीवुड के साथ-साथ आम आदमी भी इसकी आलोचना कर रहा है। वीडियो बनाने वाले कॉमेडियन के खिलाफ राज ठाकरे की पार्टी ने एफआईआऱ दर्ज कराया है। मुंबई पुलिस ने फेसबुक और यूट्यूब से इस विवादित वीडियो को हटाने को कहा है।

इस मामले में मनसे, बीजेपी और शिवसेना ने कॉमडियन तन्मय औऱ एआईबी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के कार्यकर्ताओं ने कॉमेडिन तन्मय को पीटने की भी धमकी दी है। मुंबई पुलिस ने जांच शुरु करते ही गूगल, यूट्यूब व फेसबुक से इस वीडियो को हटाने के लिए संपर्क किया है। शिवसेना और बीजेपी ने भी महाराष्ट्र के सीएम से कॉमेडियन के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है।

इस वीडियो में कॉमेडियन ने लता और सचिन के लिए आपत्तिजनक शब्दों का इस्तेमाल किया है। 26 मई को इस वीडियो सचिन वर्सेस लता सिविल वॉर के नाम से पोस्ट किया गया था। एआईबी रोस्ट में कॉमेडी करने वाले तन्मय ने बेहतर क्रिकेटर कौन, सचिन या विराट को लेकर लता और सचिन के बीच झगड़ा दिखाया है।

सचिन की पत्नी अंजलि ने इस स्नैपचैट को मशहूर शख्सियतों के लिए अपमान बताया। बीजेपी ने भी इसे तुरंत हटाने की मांग की है। शिवसेना की नीलम गोहरे ने कहा कि इस वीडियो के पीछे जिनका भी हाथ है। वे सब दिमागी तौर पर दिवालिया हैं। ये लोग सचिन और लता मंगेशकर की पॉपुलेरिटी को मिस यूज कर रहे हैं।

जेडीयू के केसी त्यागी ने कहा कि सचिन और लताजी भारतरत्न हैं और उनके चलते दुनियाभर में देश का नाम जाना-पहचाना जाता है। ऐसे कमेंट्स और कॉमेडी से उनका अपमान हुआ है। इस वीडियो के सामने आने के बाद से अनुपम खेर से लेकर रितेश देशमुख, सेलिना जेटली सबने अपनी प्रतिक्रिया दी है।

रितेश ने लिखा कि मैं शॉक्ड हूं किसी की बेइज्जती न तो कूल हो सकती है और न ही फनी। खेर ने कहा कि मैं 9 बार बेस्ट कॉमिक एक्टर का विनर रहा हूं। मुझे सेंस ऑफ ह्यूमर का अच्छा अनुभव है, लेकिन ये ह्यूमर नहीं। ये बेहद भद्दा और अपमानजनक है।

तन्मय ने कॉमेडी के वीडियो में कुछ भी गलत नहीं होने की बात करते हुए एक बयान में कहा कि जिन लोगों ने इस वीडियो को पसंद किया है वे अपने विचार एक विशेष आईडी पर उन्हें भेजें और बताएं कि उन्हें क्या पसंद आया। उन्होंने कुछ ट्वीट किये जिनमें उन्होंने अपने विरोधियों तक भी अपनी बात पहुंचाने की कोशिश की।

आगे तन्मय ने कहा कि रोस्ट वाले दिन याद आ गये बाई गॉड। भारत माता की जय। भट्ट ट्विटर पर ट्रेंड करने लगे और सोशल मीडिया में उनकी आलोचना वाले संदेशों की भी बाढ़ लग गयी। सेंसर बोर्ड के अध्यक्ष अशोक पंडित ने ट्वीट कर कहा कि तन्मय का वीडियो हास्य के नाम पर सांस्कृतिक आतंकवाद का सही उदाहरण है।

यह केवल लता मंगेशकर और सचिन तेंदुलकर के बारे में नहीं बल्कि प्रत्येक आम आदमी की गरिमा की बात है। इस पर चेतन भगत का कहना है कि आप लोगों को चुटकुलों के लिए गिरफ्तार नहीं कर सकते। भले ही चुटकुले खराब हो। सोनू निगम ने कहा है कि किसी महिला का इतनी अभद्रता से बोलना पाप है। संगीतकार विशाल ददलानी ने लिखा है कि भद्दे मजाक से सचिन और लता दोनों का ही सम्मान कम नहीं होगा।