अपनी ही पार्टी की कार्यकर्ता को दिल दे बैठे थे मुलायम, दोनों का एक बच्चा भी हुआ लेकिन...

अपनी ही पार्टी की कार्यकर्ता को दिल दे बैठे थे मुलायम, दोनों का एक बच्चा भी हुआ लेकिन...

लखनऊ: देश की राजनीति में भी कई ऐसे राजनेता रहे हैं जिन्होंने जमकर इश्क फ़रमाया है और उसे जमाने से डरे बिना अंजाम तक भी पहुँचाया है। समाजवादी पार्टी (सपा) के संस्थापक मुलायम सिंह यादव भी ऐसे नेताओं में शुमात्र हैं। बताया जाता है कि, मुलायम सिंह का राजनीतिक सितारा जब ऊंचाइयों पर था, उसी समय साधना गुप्ता उनकी जिंदगी में आई थी। दोनों की पहली मुलाकात 1982 में उस दौरान हुई थी, जब मुलायम लोकदल के अध्यक्ष बने थे। उस वक्त साधना पार्टी में केवल एक कार्यकर्ता की हैसियत से काम कर रही थी।

एक को स्पोर्ट्स पसंद दूसरे को पेंटिंग, फिर भी लाजवाब है अखिलेश-डिंपल की लव स्टोरी

बेहद खूबसूरत और तीखे नैन-नक्श वाली साधना पर जब मुलायम की निगाह गई तो, वे बस साधना को देखते रह गए। अपनी आयु से 20 साल छोटी साधना को पहली ही निगाह में मुलायम अपना दिल दे बैठे थे। मुलायम और साधना दोनों पहले से शादीशुदा थे। साधना की शादी फर्रुखाबाद के छोटे से व्यवसायी चुंद्रप्रकाश गुप्ता से हुई थी, किन्तु बाद में साधना उनसे अलग हो गईं। 80 के दशक में साधना और मुलायम की लव स्टोरी की भनक अमर सिंह के अलावा और किसी को भी नहीं थी। इसी बीच 1988 में साधना ने एक पुत्र प्रतीक को जन्म दिया। बताया जाता हैं कि साधना गुप्ता के साथ मुलायम के संबंध की उनकी पहली पत्नी और अखिलेश की मां मालती देवी को लग चुकी थी, वहीं मालती देवी के निधन के बाद साधना ने मुलायम पर उन्हें अपनी आधिकारिक पत्नी घोषित करने का दबाव डाला, किन्तु पारिवारिक ख़ासकर अखिलेश यादव के विरोध के चलते मुलायम इस रिश्ते को नाम देने से पीछे हट गए।

मुलायम ने की पीएम मोदी की प्रशंसा, आज़म खान का छलका दर्द

नब्बे के दशक में जब मुलायम उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने तो धीरे-धीरे यह बात फैलने लगी कि उनकी दो पत्नियां हैं, किन्तु किसी की मुंह खोलने की हिम्मत ही नहीं होती थी। इसके बाद 90 के दशक के आखिर में अखिलेश को साधना गुप्ता और मुलायम के पुत्र प्रतीक गुप्ता के बारे में पता चला। बताया जाता है कि उस वक़्त मुलायम साधना गुप्ता की हर बात मानते थे। आज मुलायम का राजनितिक करियर भी ढलान पर है और पार्टी की कमान भी उनके हाथ से जा चुकी है, वहीं ये प्रेम कहानी भी अब लोग भूलने लगे हैं।

खबरें और भी:-

फारूक अब्दुल्ला का बड़ा सवाल, क्या राम सिर्फ हिन्दुओं के भगवान

आप की महारैली में पीएम मोदी पर जमकर बरसे केजरीवाल

पीएम मोदी ने अंतिम दिन सदन को किया सम्बोधित, कहा हमारे कार्यकाल में पास हुए 203 बिल