मध्य प्रदेश : निर्माण के मात्र तीन महीने में ही ढह गया 'विकास' का यह चेहरा

Sep 11 2018 11:45 AM
मध्य प्रदेश : निर्माण के मात्र तीन महीने में ही ढह गया 'विकास' का यह चेहरा

भोपाल। पिछले कुछ समय से देश में पुल ढहने के नए नए मामले सामने आ रहे है जो प्रशासन की लापरवाही से लेकर भ्रष्टाचार जैसे गंभीर मुद्दों की ओर इशारा कर रहे है। कुछ समय पहले ही पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता के मजेरहाट पुल का एक बड़ा हिस्सा गिर गया था और अब ऐसा ही एक मामला मध्यप्रदेश से भी सामने आया है।

ये है दुनिया का सबसे खतरनाक ब्रिज, चलने में रूह काँप जाएगी

दरअसल यह मामला मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिले का है जहा एक पुल निर्माण के मात्र तीन महीने में ही धरासाई हो गया है। यह पुल शिवपुरी में कुनो नदी पर स्थित था लेकिन शिवपुरी में तेज बारिश होने की वजह से जब नदी में पानी का बहाव तेज हो गया तो यह पुल इस बहाव की वजह से ही टूट गया। यह पुल  मध्य प्रदेश और राजस्थान को जोड़ने वाले एक अहम् मार्ग का हिस्सा था। इस संबंध में जांच के आदेश दे दिए गए हैं।

कोलकाता पुल हादसा : एक और मौत, एक अब भी लापता

गौरतलब है कि इस पूल को  7.78 करोड़ की लागत से बनाया गया था और राज्य की बीजेपी सरकार इसे अपनी उपलब्धियों में से गिना चुकी है। इस पुल का निर्माण मात्र तीन महीने पहले ही पूरा हुआ था। उस वक्त इसका उद्घाटन केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने किया था। उस वक्त उन्होंने कहा  था कि यह  पुल मध्यप्रदेश के विकास की कहानी को बयां कर रहा है। उस वक्त शायद उन्हें पता नहीं था कि उनके विकास का यह चेहरा मात्र तीन महीनों में ही ढह जाएगा। 

ख़बरें और भी 

ब्रम्हपुत्र नदी पर बन रहा देश का सबसे लम्बा रेलवे ब्रिज

पश्चिम बंगाल: पुराने हादसों से सबक न लेने का नतीजा है 'मजेरहाट पुल हादसा'

कोलकाता का सबसे व्यस्ततम मेजरहाट पुल ढहा, कईं लोगों के मलबे में दबे होने की आशंका

 

?