देवास: डिप्टी कलेक्टर के घर में चोरी करने घुसे चोर छोड़ गए चिट्ठी

देवास: मध्य प्रदेश के इंदौर से सटे देवास में आए दिन चोरों के हौंसले बढ़ते दिखाई दे रहे हैं। जी दरअसल शहर में कई वारदातों को अंजाम देने वाले इन चोरों के हौंसलों का अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि अब यह अधिकारियों के घर को भी अपने निशाने पर ले रहे हैं। बीते रात ही कुछ चोरों ने डिप्टी कलेक्टर के सूने घर को निशाने पर लिया हालाँकि घर में चोरों को चुराने लायक कुछ भी नहीं मिला।

ऐसे में यह बदमाश चोर डिप्टी कलेक्टर के नाम एक चिट्ठी लिखकर छोड़कर गए और उसमें वह लिखकर गए, 'जब पैसे नहीं थे तो लॉक नहीं करना था कलेक्टर'। जी दरअसल यह चोर डिप्टी कलेक्टर त्रिलोचन गौड़ के सिविल लाइन स्थित शासकीय घर पर वारदात को अंजाम देने पहुंचे थे। आपको यह भी बता दें कि गौड़ वर्तमान में देवास की खतेगांव तहसील के एसडीएम हैं और करीब 15 रोज से अपने देवास स्थित घर नहीं आए थे। ऐसे में जब कल रात वह आए तो उन्होंने देखा कि घर का पूरा सामान बिखरा पड़ा है और कुछ नगदी और चांदी के जेवरात गायब हैं।

इस बारे में सूचना उन्होंने पुलिस को दी। वहीं इस मामले में जांच के दौरान घर में चोरों द्वारा लिखी एक चिट्ठी मिली जिसमें लिखा था कि 'जब पैसे नहीं थे तो लॉक नहीं करना था कलेक्टर'। इस तरह की चिट्ठी पढ़कर आप समझ सकते हैं इन बदमाश चोरों के हौसले कितने बुलंद हैं। वहीं इस मामले में पुलिस ने अज्ञात चोरों के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर उनकी तलाश शुरू कर दी है।

इंदौर: PUBG खेलने के लिए नाबालिग बच्चे बने लुटेरे

किन्नरों को पहचान पत्र देने वाला प्रदेश का पहला जिला बना इंदौर

शराब पीकर और तेज गाड़ी चालाने वालों की अब खैर नहीं, पुलिस को मिलने वाला है 'इंटरसेप्टर व्हीकल'

Most Popular

- Sponsored Advert -