फिल्म रिव्यु : दमदार एक्शन पर कहानी में कमजोर है अकीरा

बॉलीवुड की दबंग अभिनेत्री सोनाक्षी सिन्हा की बहुचर्चित फिल्म अकीरा आज सिनेमाहॉल में दस्तक देगी. फिल्म आपने ट्रेलर से काफी सुर्खिया बटोर चुकी है. फिल्म का निर्देशन ए आर मुरुगोदास ने किया है. फिल्म की कहानी महिला केंद्रित है. वैसे तो यह तमिल फिल्म का रीमेक है. लेकिन मुरुगोदास और सोनाक्षी का कॉम्बिनेशन फिल्म को मजबूती देता है. बात की जाए फिल्म की कहानी की तो फिल्म जोधपुर के एक कॉलेज में पढ़ने वाली लड़की अकीरा (सोनाक्षी सिन्हा) के इर्द गिर्द घूमती है.

अकीरा एक अलग लड़की है जो आपने अलग तरह के बर्ताव के कारण दुसरो के साथ एडजस्ट नहीं कर पति है. उसका यही बर्ताव उसके बड़े भाई और उसकी माँ का चिंता का कारण है. वह अपनी पढ़ाई को पूरा करने के लिए मुम्बई आती है. और यहाँ पर होस्टल में रहने लगती है. और यही से फिल्म की कहानी एक नया मोड़ लेती है. यहाँ आते ही अकीरा एक क्राइम में ना चाहते हुए फंस जाती है. और वह इन सब मुसीबतो से कैसे निपटाती है इसके लिए आपको फिल्म देखना होगी.

अगर बात की जाये अभिनय की तो सोनाक्षी एक मंझी हुई अभिनेत्री है. और फिल्म में उन्होंने जमकर एक्शन किया है. वही नेगेटिव किरदार में अनुराग कश्यप भी काफी बेहतरीन लगे है. निर्देशन की बात की जाए तो मुरगोदास ने फिल्म को काफी हद तक बंधे रखा है. लेकिन फिल्म की कहानी कही कही ढीली लगती है. संगीत की बात की जाए तो फिल्म का एक भी गाना आपको याद नहीं रहेगा. और इन गानो के कारण फिल्म की लंबाई भी बड़ी है. कुल मिलाकर फिल्म औसत है. अगर आप सोनाक्षी के दमदार अभिनय और स्टंट को देखना चाहते है तो फिल्म देख सकते है.