जन्मदिन विशेष : जो कोई नहीं कर पाता था वो करती थी मौसमी, बिना ग्लिसरीन के आ जाते थे आंसू

Apr 26 2019 01:00 AM
जन्मदिन विशेष : जो कोई नहीं कर पाता था वो करती थी मौसमी, बिना ग्लिसरीन के आ जाते थे आंसू

हिंदी सिनेमा की दिग्गज अदाकारा मौसमी चटर्जी ने 60-70 के दशक में अपनी अदाकारी से हिन्दी और बंगाली सिनेमा में एक खास पहचान बनाई थी. महज 16 साल में मौसम चटर्जी ने अपने करियर की शुरुआत बांग्ला फिल्म 'बालिका बधु' से की थी. बॉलीवुड में फिल्म 'अनुराग' से कदम रखने वाली मौसमी चटर्जी आज पूरे 71 वर्ष की हो चुकी है. 

मौसमी का जन्म बंगाल की राजधानी कोलकाता में हुआ और वो वहीं पर पली बढ़ीं भी. उन्होंने कई बेहतरीन फिल्में की हैं जैसे 'अंगूर', 'मंजिल' और 'रोटी कपड़ा और मकान'. साथ ही मौसमी ने बॉलीवुड के पहले सुपरस्टार राजेश खन्ना, शशि कपूर, जीतेंद्र, संजीव कुमार, विनोद मेहरा और सदी के महानायक अमिताभ बच्चन जैसे बेहतरीन कलाकारों के साथ भी काम कर अपने अभिनय का लोहा मनवाया है. 

ख़ास बात यह है कि 80 के दशक में मौसमी चटर्जी हिन्दी सिनेमा की छठवीं सबसे महंगी एक्ट्रेस हुआ करती थीं और फिल्मों के बाद अब मौसमी ने राजनीति की ओर भी अपना रुख किया है. बता दें कि इस साल  2 जनवरी को भारतीय जनता पार्टी उन्होंने ज्वाइन की है. उनकी पिता  प्रांतोष चट्टोपाध्याय आर्मी ऑफिसर थे और मौसमी के असली नाम की बात की जाए तो वे पहले इंदिरा चटर्जी के नाम से जानी जाती थे, लेकिन फिर वे मौसमी चटर्जी बन गई. जानकारी के मुताबिक, बंगाली फिल्मों के डायरेक्टर तरुण मजूमदार ने उनका नाम बदलकर मौसमी रख दिया था. उनको लेकर यह भी कहा जाता है कि वे रोने वाले दृश्य बड़े ही सरलता के साथ कर लेती थीं और इसके लिए उन्हें ग्लिसरीन की भी आवश्यकता नहीं रहती थी. 

आलिया के साथ लिव-इन में रहें रणबीर, माँ नीतू ने दिया ये आईडिया

अब हिंदी में आ रही है सुपरहिट सुपर डीलक्स, डायरेक्टर ने बताया- साल की बेस्ट फिल्म

इस डायरेक्टर ने किया खुलासा, वरुण धवन के साथ लाएंगे यह फिल्म

सनी लियोन की सेक्सी टांगों पर आया फैंस का दिल, नई तस्वीर में मचाया तहलका