मैं सब जनता हूँ

मैं सब जनता हूँ

मैं सब जनता हूँ ,

यही सोच इंसान को कुएँ का मेंढक बना देती है