युद्ध अपराधी मतिउर रहमान निजामी को फांसी पर लटकाया

बांग्लादेश : बीते मंगलवार को देर रात में बांग्लादेश के युद्ध अपराधी मतिउर रहमान निजामी को फांसी पर चढ़ाया गया. बता दे कि निजामी पर 1971 में बांग्लादेश की आजादी की लड़ाई के दौरान मानवता के खिलाफ अपराध किए जाने का आरोप लगाया गया था. अधिक जानकारी देते हुए यह भी बता दे कि जमात-ए-इस्लामी के सर्वोच्च नेता निजामी को ढाका की सेंट्रल जेल में फांसी पर लटकाया गया.

मामले में यह बात सामने आई है कि निजामी के द्वारा राष्ट्रपति को दया याचिका भेजने से भी इनकार कर दिया गया था. इस मामले में जानकारी देते हुए बांग्लादेश गृहमंत्री ने यह बताया है कि यदि निजामी राष्ट्रपति के पास अपनी दया याचिका पेश कर देता और अपने गुनाह को कबूल कर लेता तो उसकी मौत की सजा माफ़ होने की गुंजाईश थी. लेकिन उसने ऐसा ना कर के फांसी की सजा को ही मान्य किया.

बताया जा रहा है की निजामी की फांसी के पहले जेल के आस-पास भी सुरक्षा को कड़ा कर दिया गया था. निजामी को लेकर यह बताया जाता है कि उसपर 450 लोगों की हत्या, 30-40 महिलाओं का बलात्कार, हिंदुओं को वापस भेजना, धुलौरा गांव में 30 लोगों की हत्या का आदेश, बुद्धिजीवियों, प्रोफेशनल्स का अपहरण, टॉर्चर और हत्या करने का आरोप लगा हुआ था. और इसके लिए निजामी वर्ष 2010 से कानूनी लड़ाई लड़ रहा था.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -