वह चार बातें जो माता के गर्भ से ही उसके शिशु के जीवन का सार होती है

By Ramgovind Kabiriya
Dec 04 2017 09:58 AM
वह चार बातें जो माता के गर्भ से ही उसके शिशु के जीवन का सार होती है

हर स्त्री के मन में माता बनने की चाहत होती है और वह अपनी संतान को लेकर कई सारे स्वप्न देखती है.  वह स्त्री सौभाग्यशाली होती है जिसे मातृत्व सुख प्राप्त होता है. किन्तु क्या आप जानते है की जब स्त्री गर्भ धारण करती है तो उसकी संतान के इस संसार में आने के पूर्व ही उसकी यह चार बातें निश्चित हो जाती है और यही चार बातें भविष्य में उस शिशु के जीवन का सार बनती है. जो उस शिशु के जीवन से जुड़ी होती है.

1 जब कोई स्त्री गर्भ धारण करती है तो उसके मन में अपने शिशु को लेकर प्रथम बात यह आती है की उसके शिशु का जीवन काल कितना होगा. वह दीर्घ आयु तक अपनी माता के साथ रहेगा.

2 स्त्री के गर्भ धारण के पश्चात स्त्री के मन की दूसरी बात अपने शिशु के प्रति उसके जीवन में धन और ज्ञान से सम्बंधित होती है की वह अपने जीवन में कितन धन और ज्ञान प्राप्त करेगा.

3 गर्भ में शिशु की तीसरी बात यह होती है की उसका लक्ष्य क्या होगा जिसे हासिल करने के बाद वह वह क्या बनेगा.

4 अंतिम और चौथी बात उसके जीवन की समाप्ति की होती है की वह कब इस संसार को छोड़कर जाएगा.

 

होने वाली है अगर आपकी भी शादी तो ज़रा गोत्र पर ध्यान दें वरना..

जिस व्यक्ति के घर दिख जाए चाय के ऐसे कप तो समझ लें की वह..

जब महिलाओं की दायीं आँख फड़के तो समझ जाओ की..

आपकी तर्जनी ऊँगली में छिपे है सफलता के राज़