मां ने ही उतारा कलेजे के टुकड़े को मौत के घाट, फिर रची झूटी साजिश

चंडीगढ़: 12 अप्रैल का एक मामला है, गांव सारंगपुर में ढाई वर्षीय बच्ची पीहू की मौत हुई थी. लेकिन जब मामले की सच्चाई सामने आई तो हर किसी की रूह कांप गई. दरअसल बच्ची की मौत नहीं हुई थी, उस मासूम की हत्या कर दी गई थी. हत्या करने वाला कोई और नहीं बल्कि मासूम की मां थी. इसके बाद मां ने कहानी बनाई थी कि अपनी बेटी पीहू को थप्पड़ मारा और उसका सिर दीवार पर लगा, जिससे उसकी मौत हो गई. जबकि असलियत में मां मंजू ने चीनी गिरने के मौके का फायदा उठाकर बच्ची का गला घोंट कर उसकी हत्या की थी.

हत्या के बाद मंजू ने शव को बोरी में बंद कर इंडस्ट्रियल एरिया में फेंका था. बता दे कि ढाई वर्षीय बेटी पीहू उर्फ गुड्डी कि हत्या के मामले में आरोपी मां को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. हालांकि, बाद में पुलिस ने इस केस में गैर इरादतन हत्या के तहत चार्जशीट दायर करने का मन बना लिया था. पीहू की मां मंजू ने कहा था कि पीहू ने चीनी जमीन पर फेंक दी थी. इस वजह से उसे गुस्सा आ गया और उसने पीहू को जोर के थप्पड़ जड़ दिया. पीहू का सिर दीवार पर लगा और उसकी मौत हो गई. इसके बाद उसने कहा कि वह डर गई थी, इसलिए शव को इंडस्ट्रियल एरिया में फेंक दिया. बाद में पीहू की लापता होने की रिपोर्ट थाना इंडस्ट्रियल एरिया में 12 अप्रैल की रात को ही कर दी थी.पुलिस के पास शव को ले जाते और फेंकते हुए की मंजू की सीसीटीवी फुटेज भी हैं.

पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी हत्या कि पुष्टि हो चुकी है कि पीहू कि हत्या गाला घोंटकर कि गई है. पीहू उर्फ गुड्डी अपने परिवार की सबसे छोटी बेटी थी. घर में उसके अलावा पिता रामेश्वर, मां मंजू सबसे बड़ी बहन 10 साल की सोनी, छोटा भाई 8 साल का प्रिंस तीसरी क्लास में पढ़ता है. उससे छोटा साढ़े तीन साल का सौरभ और गुड्डी है. जबकि जबसे मां मंजू गिरफ्तार हुई है, तब से बड़ी बहन सोनी दोनों बहन भाई के लिए मां का रोल निभा रही है. बेटी सोनी ही घर में खाना बना रही है और अपने बहन भाइयों को संभाल रही है.

Most Popular

- Sponsored Advert -