समझ लूंगा माँ ने ही खाना परोसा है

समझ लूंगा माँ ने ही खाना परोसा है

आपको गर्दन नीची कर खाने को कहा जाए और हर रोज अलग-अलग महिलाऐ बिना बोले आपको खाना परोसे...
अब आपको यह पता लगाना हे कि
आपकी माताजी ने किस दिन खाना परोसा तो आपके पास पहचानने का क्या आधार होगा ..?

दिल छू लेने वाला जवाब-
मैं हर एक से हर दिन आधी रोटी मांगूगा, जिस दिन आधी रोटी मांगने पर भी पूरी रोटी थाली में आ जाए तो समझ लूंगा आज मां ने ही परोसा है...”