मोरारी बापू का कांग्रेस पर वार, मां को याद कर किसकी आंखों से नहीं निकलते

Sep 30 2015 09:50 AM
मोरारी बापू का कांग्रेस पर वार, मां को याद कर किसकी आंखों से नहीं निकलते

गांधीनगर : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा अमेरिका में फेसबुक के दफ्तर में उपस्थितों से की गई चर्चा में भावुकताभरा संबोधन किया था। इस दौरान अपनी मां को याद कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आंखों से आंसू बह निकले थे। जिसके बाद कांग्रेस ने मोदी की जमकर निंदा की थी और इसे उनका नाटकीय अंदाज़ बताया था। इस मामले में संत मोरारी बापू ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का समर्थन किया। कहा गया कि मां को याद कर उनकी आंखों से आंसू निकल आए तो क्या हुआ। आखिर मां की याद आते ही किसकी आंख से आंसू नहीं निकलते? 

मोरारी बापू द्वारा यह कहा गया कि उन्हें राजनीति से कोई सरोकार नहीं है। राजनीति अलग विषय है लेकिन हर बात में विरोध ठीक नहीं है। यहां पर कोई भी सज्जन नहीं है। नेता देशवासियों को बेवकूफ समझ रहे हैं। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि सियासत से उन्हें कोई मतलब नहीं है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुजरात में करीब 10 वर्ष मुख्यमंत्री रहे लेकिन मैं कभी भी गांधीनगर नहीं गया।

उल्लेखनीय है कि कांग्रेस द्वारा विरोध की राजनीति करने पर लोकप्रिय संत और कथावाचक मोरारी बापू ने कहा कि विरोध की राजनीति उचित नहीं है। लगातार हंगामा करना और विरोध करना अच्छा नहीं है। इससे राजनीतिक गतिरोध ही बढ़ता है। हालांकि उन्होंने संसद की कार्रवाई बाधित होने को लेकर कुछ नहीं कहा लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नेताओं और कांग्रेस द्वारा विरोध करते हुए संसद की कार्रवाई को बाधित करने का प्रयत्न किया जाता रहा है। जिसके कारण कई महत्वपूर्ण बिल पेश होने से रह गए।