मौसम विभाग का अनुमान रहा सही, झमाझम हो रही बारिश

Jun 02 2020 08:38 AM
मौसम विभाग का अनुमान रहा सही, झमाझम हो रही बारिश

महामारी कोरोना के बीच भारतीय मौसम विभाग ने मानसून की शानदार बारिश का पूर्वानुमान व्यक्त किया है. मानसूनी बादल अपने निर्धारित समय से एक जून को केरल पहुंच गए हैं. केरल में झमाझम बारिश हो रही है और देश के अन्य हिस्सों में भी इस सीजन में झमाझम बारिश का अनुमान है. भारतीय मौसम विभाग के महानिदेशक डॉक्टर मृत्युंजय महापात्र ने कहा 'दक्षिण-पश्चिम मानसून ने केरल में दस्तक दे दी है. चालू सीजन में मानसूनी बादल देशभर में सामान्य से अधिक बरसेंगे.' उन्होंने कहा कि एक जून को केरल में मानसून पूरी तरह सक्रिय हो गया है. यह अपनी निर्धारित रफ्तार से ही देश के दूसरे हिस्से की ओर बढ़ेगा. जून से सितंबर के बीच सक्रिय रहने वाला मानसूनी बारिश का वितरण इस बार बहुत अच्छा रहने वाला है.

उत्तराखंड में आज पहाड़ से मैदान तक बारिश-ओलावृष्टि का अलर्ट

इसके अलावा जुलाई में सामान्य से 103 फीसद बारिश की संभावना है, जब खरीफ सीजन की फसलों के लिए सबसे ज्यादा जल की जरूरत होती है. इसके मुकाबले अगस्त माह में बारिश सामान्य से 97 फीसद रह सकती है. मानसून सीजन के जून से सितंबर के बीच इन चार महीनों के दौरान सामान्य के मुकाबले 102 फीसद बारिश होने की संभावना है. डॉक्टर महापात्र ने बताया कि इस दौरान सामान्य तौर पर 88 सेमी बारिश होती है, जिससे अधिक बरसात हो सकती है. वही, बारिश के वितरण के बारे में डॉक्टर महापात्र ने बताया उत्तर पश्चिम क्षेत्रों में सामान्य से 107 फीसद, सेंट्रल इंडिया में 103 फीसद, दक्षिणी क्षेत्र में 102 फीसद और पूर्वोत्तर के राज्यों में बारिश सामान्य के मुकाबले 96 फीसद होने की संभावना है. वैसे कुल मिलाकर सामान्य से अधिक बरसात होगी. समुद्र का तापमान भी रहेगा सामान्य मौसम विभाग ने बताया कि मानसून सीजन के दौरान प्रशांत महासागर व हिंद महासागर की सतह का तापमान सामान्य रहने की संभावना है. जबकि मानसून के उत्तरार्ध में समुद्री जल की ऊपरी सतह का तापमान औसत से कम होगा, जिससे ला नीनो जैसी स्थिति बनने लगेगी.

उत्तराखंड भाजपा विधायक राजकुमार ठुकराल पर लॉकडाउन के उल्लंघन का केस

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि ऐसे में मानसून की अच्छी बारिश की संभावना बढ़ जाएगी. भारतीय मौसम विभाग मानसून को लेकर पहला पूर्वानुमान अप्रैल के मध्य में जारी करता है, जबकि दूसरा मई के आखिरी सप्ताह अथवा जून के पहले सप्ताह में. अप्रैल में जारी पूर्वानुमान में सुधार करते हुए मौसम विभाग ने कहा है कि इस सीजन में पूर्वोत्तर के राज्यों को छोड़कर बाकी जगहों पर चौतरफा बारिश होगी. उसके इस पूर्वानुमान से खरीफ सीजन में खाद्यान्न की बंपर पैदावार की संभावना बढ़ गई है.

उत्तराखंड में आज आठ नए संक्रमित मरीज मिले, कुल संख्या 929

सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत हुए सेल्फ क्वारंटीन, तीन कैबिनेट मंत्री भी शामिल

युवक ने क्वारंटीन सेंटर में घुसकर युवती से की छेड़छाड़