'वायु' के प्रभाव से छत्तीसगढ़ में धीमी हुई मानसून की रफ़्तार

Jun 20 2019 06:50 PM
'वायु' के प्रभाव से छत्तीसगढ़ में धीमी हुई मानसून की रफ़्तार

रायपुर  : राजधानी समेत छत्तीसगढ़ में अमूमन 15 से 20 जून के बीच सक्रिय हो जाने वाला मानसून इतनी धीमी रफ्तार से आगे बढ़ रहा है कि अगले चार-पांच दिन तक इसके बस्तर पहुंचने की संभावना नहीं है। मौसम विशेषज्ञों के अनुसार पिछले 12 साल में इस मानसून की रफ्तार सबसे धीमी है। 

हरिद्वार में आज होगी विश्व हिंदू परिषद की बैठक, कई मुद्दों पर चर्चा संभव

फिलहाल ऐसी है स्तिथि 

जानकारी के अनुसार वायु तूफान की वजह से रफ्तार में यह कमी आई है, लेकिन इस वजह से मानसून लगभग 15 दिन लेट होने के आसार हैं। इसीलिए अभी तक यह देश के सिर्फ 10.15 फीसदी क्षेत्र में ही पहुंच पाया है, जबकि 20 जून तक आमतौर से देश का दो-तिहाई हिस्सा इसके दायरे में आ जाता है।  जून की वर्षा में 44 फीसदी कमी मौसम विभाग के मुताबिक एक जून से अभी तक बारिश में देश भर में 44 फीसदी की कमी हो चुकी है। 

राज्यपाल सत्यपाल मलिक से मुलाकात कर महबूबा मुफ्ती ने की राज्य के हालातों पर चर्चा

आगे ऐसा रहेगा मौसम 

इसी के साथ मानसून अभी केरल, कनार्टक के दक्षिणी हिस्से, तमिलनाडु के दो तिहाई हिस्से और पूर्वोत्तर भारत में ही सक्रिय है। मानसून सिस्टम को फिर से मजबूत होने में कम से कम एक सप्ताह का वक्त और लग सकता है। अगले दो से तीन दिन तक मानसून के कोंकण तट तक पहुंचने की उम्मीद है। 25 जून तक महाराष्ट्र के अधिकतर हिस्सों को यह कवर कर सकता है। जून के अंत तक मध्य भारत के अधिकतर क्षेत्र मानसून सिस्टम के भीतर आ सकते हैं। लेकिन यह तय सीमा से 15 दिन लेट है। 

घूमने का शौक रखते हैं इन देशों में भूलकर भी ना जाएं

देश के कई हिस्सों को अब भी बारिश का इंतजार, मानसून की रफ़्तार पढ़ी धीमी

कार्यालय से घर लौट रहे थाना प्रभारी को कैप्सूल ने कुचला मौत