'हवा से फ़ैल रहा मंकीपॉक्स', एक्सपर्ट ने दी ये खास सलाह

नई दिल्ली: कोरोना वायरस (Coronavirus) के बढ़ते मामलों के साथ मंकीपॉक्स के संक्रमण (Monkeypox Virus Infection) ने पूरी दुनिया को एक नई परेशानी में डाल दिया है। जी दरअसल दुनिया के करीब 29 देशों में मंकीपॉक्स के मामले सामने आ चुके हैं। वहीं विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि अभी तक मंकीपॉक्स के 1000 से अधिक मामलों की पुष्टि हो चुकी है और इस बीच विशेषज्ञों ने मंकीपॉक्स वायरस को लेकर एक हैरान करने वाला खुलासा किया। जी दरअसल यूएस सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) के विशेषज्ञों ने कहा कि, 'मंकीपॉक्स वायरस हवा से भी फैलता है।'

इसी के साथ विशेषज्ञों की मानें तो अगर एक संक्रमित व्यक्ति के साथ लगातार आमने सामने संपर्क में कोई रहता है तो यह वायरस हवा से फैल सकता है। वहीं एक्सपर्ट का यह मानना है कि मंकीपॉक्स वायरस हवा में ज्यादा दूरी नहीं तय कर सकता। इसी के साथ एक्सपर्ट ने लोगों को मास्क पहनने की सलाह दी है। सामने आने वाली एक रिपोर्ट के मुताबिक, बीते शुक्रवार को एक ब्रीफिंग के दौरान, सीडीसी प्रमुख रोशेल वालेंस्की ने कहा कि, 'कई जगहों पर रोगसूचक रोगियों के साथ शारीरिक संपर्क और उनके कपड़ों और बिस्तरों को छूने से मंकीपॉक्स हो रहा था।' इसी के साथ सीडीसी ने यात्रियों और लोगों को मंकीपॉक्स से बचने के लिए मास्क पहने की सलाह दी है और इसके साथ ही मंकीपॉक्स से संक्रमित व्यक्ति के पास जाने से बचने के लिए कहा है।

जी दरअसल सीडीसी ने अपनी ब्रीफिंग में यह भी स्पष्ट किया कि, 'शरीर में दाने पैदा करने वाला मंकीपॉक्स वायरस कोविड19 वायरस की तरह हवा में ज्यादा देर तक जीवित नहीं रह सकता।' जी दरअसल एक्सपर्ट ने यह भी कहा कि यह वायरस किसी दूसरे का सामान छूने या फिर दरवाजे या कुंडी छूने से नहीं फैलता जैसा कि हमने पहले कोरोना वायरस के दौरान देखा था। जी दरअसल विशेषज्ञों का कहना है मंकीपॉक्स के अभी तक जितने भी मामले सामने आए हैं वह सभी संक्रमित व्यक्ति के सीधे संपर्क में आने से मिले हैं। सीडीसी ने लोगों को मंकीपॉक्स वायरस से बचने के लिए मास्क पहने की सलाह दी है।

इस गंभीर बीमारी से जूझ रहे हैं जस्टिन बीबर, जानिए इसके लक्षण

च्विंगम चबाने से होते हैं लाजवाब फायदे

बिना पानी के ही निगल लेते हैं दवाई तो अभी हो जाएं सतर्क

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -