Share:
अवैध बांग्लादेशियों और रोहिंग्याओं को भारत में बसाते थे मोहम्मद जुबैर-साहिल और रियाजुद्दीन, देशभर में फैला रखी थी 436 फ्रैंचाइज़ी
अवैध बांग्लादेशियों और रोहिंग्याओं को भारत में बसाते थे मोहम्मद जुबैर-साहिल और रियाजुद्दीन, देशभर में फैला रखी थी 436 फ्रैंचाइज़ी

लखनऊ: एक महत्वपूर्ण ऑपरेशन में, उत्तर प्रदेश की स्पेशल टास्क फोर्स (STF) ने जन्म और मृत्यु प्रमाण पत्र से लेकर नकली कोविड टीके तक नकली प्रमाण पत्र बनाने में शामिल तीन लोगों को गिरफ्तार किया। मास्टरमाइंड मोहम्मद साहिल को साथी मोहम्मद जुबैर और रियाजुद्दीन के साथ गाजियाबाद से हिरासत में लिया गया। सॉफ्टवेयर और वेबसाइटों के माध्यम से बड़े पैमाने पर काम करने वाले इस गिरोह ने देश भर में 436 फ्रेंचाइजी तक फैला एक विस्तृत नेटवर्क बनाया था।

जालसाजी की विविध रेंज:
गिरोह की धोखाधड़ी की गतिविधियाँ केवल प्रमाणपत्रों से आगे तक फैली हुई थीं, जिसमें अवैध रूप से देश में प्रवेश करने वाले घुसपैठियों के लिए भारतीय जन्म प्रमाणपत्र सहित कई प्रकार के दस्तावेज़ शामिल थे। यूपी STF ने खुलासा किया है कि तीनों ने असंख्य दस्तावेज तैयार करने के अपने ऑपरेशन का फायदा उठाते हुए 7000 से अधिक फर्जी प्रमाणपत्र बनाने में सफलता हासिल की थी।

परिचालन पैमाना और कार्यप्रणाली:
गिरफ्तार किए गए आरोपियों ने जन्म-मृत्यु प्रमाणपत्र बनाने के लिए आधिकारिक सरकारी साइट (www.crsorgi.gov.in) से मिलती-जुलती कई फर्जी वेबसाइटें स्थापित की थीं। सॉफ्टवेयर डेवलपर्स की सहायता से विभिन्न राज्यों में काम करते हुए, गिरोह ने अपने अवैध उद्यम का विस्तार करने के लिए फ्रेंचाइजी बेचने का भी जोखिम उठाया।

अवैध घुसपैठ और दस्तावेज़ धोखाधड़ी:
मास्टरमाइंड के रूप में पहचाने जाने वाले मोहम्मद साहिल ने बांग्लादेश और म्यांमार जैसे देशों के घुसपैठियों के लिए भारतीय जन्म प्रमाण पत्र बनाने की बात कबूल की। फिर इन नकली दस्तावेजों का इस्तेमाल भारतीय निवास प्रमाण पत्र, मतदाता कार्ड, आधार कार्ड बनाने के लिए किया गया, जिससे अपराधियों को सरकारी योजनाओं का फायदा उठाने और बीमा कंपनियों के साथ दावा दायर करने में मदद मिली।

जब्त उपकरण और जांच:
गिरफ्तारी के दौरान, कानून प्रवर्तन ने विभिन्न अस्पतालों और नगर पंचायतों से प्रिंटर, लेमिनेशन मशीन, लैपटॉप, थंब स्कैनर, वेबकैम और नकली डिजिटल हस्ताक्षर सहित महत्वपूर्ण मात्रा में उपकरण जब्त किए। अतिरिक्त साक्ष्य जुटाने के लिए अतिरिक्त पुलिस बल इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों की फोरेंसिक जांच कराने की योजना बना रही है।

इस नकली प्रमाणपत्र गिरोह का खात्मा ऐसी धोखाधड़ी गतिविधियों पर अंकुश लगाने के लिए निरंतर सतर्कता और तकनीकी उपायों की आवश्यकता पर प्रकाश डालता है। दोषियों को पकड़ने और उनके उपकरण जब्त करने में एसटीएफ की सफलता आधिकारिक दस्तावेजों की अखंडता बनाए रखने और संवेदनशील जानकारी के दुरुपयोग को रोकने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।

'कल 4 राज्यों के चुनावी नतीजे आएँगे, लेकिन मिजोरम के नहीं, क्योंकि चर्च...', चुनाव आयोग को बदलनी पड़ी तारीख

बिचौलिए संजय भंडारी और रॉबर्ट वाड्रा का कनेक्शन ? सुप्रीम कोर्ट पहुंचा गांधी परिवार के इनकम टैक्स का मामला

उत्तरकाशी सुरंग से निकाले गए यूपी के 8 मजदूरों से मिले सीएम योगी, उपहार देकर किया सम्मान

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -