मोहब्बत का यही अंजाम था

म से पहले भी मोहब्बत का यही अंजाम था
क़ैस भी नाशाद था फ़रहाद भी नाकाम था.....

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -