मोदी रूस में

बिना किसी एजेंडे के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रूस पहुंच गए है जहा रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को चौथी बार राष्ट्रपति बनने की शुभकामनाये दी. उन्होंने अटल बिहारी वाजपेई काल की पुतिन की यात्रा का जिक्र किया. प्रधानमंत्री किसी तय एजेंडे के तहत चर्चा नहीं करेंगे. आतंकवाद, अमेरिका, चीन और नॉर्थ कोरिया जैसे कुछ अहम मुद्दे बातचीत का हिस्सा हो सकते है. प्रधानमंत्री के सवागत में पुतिन ने भी स्वागत भाषण दिया. सूत्रों के अनुसार दोनों शीर्ष नेताओं की यह मुलाकात चार से छह घंटे चल सकती है और इसका कोई तय ‘एजेंडा’ नहीं है. इस बैठक में द्विपक्षीय मुद्दों पर बहुत सीमित ही चर्चा होने की संभावना है.

बताया जा रहा है कि दोनों नेता ईरान परमाणु समझौते से अमेरिका के हटने, अफगानिस्तान व सीरिया में हालात, आतंकवाद के खतरे तथा आगामी शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) व ब्रिक्स शिखर सम्मेलन बैठकों पर विचार विमर्श कर सकते हैं. इसी तरह अमेरिका के एक नए कानून सीएएटीएसए के तहत रूस के खिलाफ प्रतिबंधों के भारत-रूस रक्षा सहयोग पर संभावित असर भी इस दौरान चर्चा हो सकती है.

सूत्रों ने कहा कि भारत सरकार इस मुद्दे को अमेरिका के ट्रंप प्रशासन के साथ उठा रही है और वह रूस के साथ अपने रक्षा संबंधों पर किसी तीसरे पक्ष के ‘ हस्तक्षेप’ की अनुमति नहीं देगा. इस अनौपचारिक शिखर वार्ता का उद्देश्य दोनों देशों की दोस्ती व विश्वास का इस्तेमाल प्रमुख वैश्विक व क्षेत्रीय मुद्दों पर समझ कायम करना है. व्लादिमीर पुतिन के साथ मुलाकात के दौरान प्रधानमंत्री मोदी मेक इन इंडिया की भी बात करेंगे और रूस से निवेश का आग्रह करेंगे. बता दें कि हाल ही में पुतिन चौथी बार रूस के राष्ट्रपति चुने गए हैं, ऐसे में मोदी का दौरा और भी खास हो जाता है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 26 मई को आएंगे ओड़िसा के दौरे पर

बिना किसी तय एजेंडे के पीएम रूस दौरे पर

शपथ से पहले स्वामी का दिल्ली दौरा आज

पाकिस्तान ने गोलीबारी बंद करने की मांग की

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -