इस माह से मॉडर्ना ने करेगी बूस्टर शॉट बेचने की पेशकश, क्षतिपूर्ति मांग को लेकर की जा रही है बात

वाशिंगटन: अमेरिकी वैक्सीन निर्माता मॉडर्ना ने जनवरी 2022 से भारत को अपने कोरोना वैक्सीन की बूस्टर खुराक बेचने की पेशकश कर चुके है। हालांकि गवर्नमेंट की इस मध्य क्षतिपूर्ति छूट पर मॉडर्ना और जॉनसन एंड जॉनसन के साथ बातचीत जारी है। इस बातचीत में अभी लगभग 200 मिलियन खुराक की बिक्री भी मौजूद थी। जिनमे फाइजर से 50 मिलियन, जॉनसन एंड जॉनसन से 70 मिलियन और मॉडर्ना से 50 मिलियन डोज शामिल हैं।

गवर्नमेंट और कंपनी के मध्य हो रही बातचीत भविष्य में टीकों की आपूर्ति की ओर इशारा करती है। हालांकि, जिससे भारत के कोरोना-विरोधी शॉट्स के बजट पर प्रभाव पड़ता हुआ नज़र आ रहा है, जो वर्तमान में 45,000-50,000 करोड़ रुपए अनुमानित है। नवीनतम अमेरिकी पेशकश जिसमें इंडिया के लिए लगभग 8 करोड़ शॉट्स की परिकल्पना की गई है, वह भी मददगार सिद्ध होगी अगर इसे जल्द ही वितरित किया जाता है, क्योंकि अगस्त से घरेलू उत्पादन में निरंतर वृद्धि होने की उम्मीद है।

विदेश मंत्रालय को डोज की पहली सप्लाई का इंतजार: विदेश विभाग के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने बोला कि उन्हें अभी भी प्रतीक्षा है कि अमेरिका द्वारा 25 मिलियन की पहली किस्त में कितने टीके दान किए जा चुके है। अमेरिकी अधिकारियों ने कहा था कि ये डोज फाइजर, मॉडर्ना या जॉनसन एंड जॉनसन होंगी। भारत को जिसकी आपूर्ति के उपरांत कोरोना से लड़ने में और ताकत मिलेगी।

उन्होंने बोला कि भारत बायोटेक ने कोवैक्सिन के लिए WHO से आपातकालीन उपयोग सूची मांग चुके है। जैसा कि स्पुतनिक के रूसी वैक्सीन निर्माता ने किया है। यह पूछे जाने पर कि जिन भारतीयों को कोवैक्सिन का टीका लगाया जा चुका था, उन्हें विदेशों में बाधाओं का सामना करना पड़ रहा है, प्रवक्ता ने बोला कि विभाग "विदेश में भारतीयों के हितों की रक्षा के लिए कार्य कर रहा है। वह निरंतर इस मुद्दे को संबंधित सरकारों के साथ उठा रहे हैं।

वैक्सीन क्षतिपूर्ति में छूट का क्या है मतलब: जंहा इस बात का पता चला है कि वैक्सीन क्षतिपूर्ति में छूट का मतलब है कि वैक्सीन के साइड इफेक्ट होने पर कंपनी को किसी भी तरह का हर्जाना नहीं भरना होगा। अगले महीने देश में फाइजर वैक्सीन भी आ सकती है। फाइजर ने इंडियन गवर्नमेंट से क्षतिपूर्ति संबंधी नियमों में छूट मांगी थी, जिसके लिए गवर्नमेंट ने भी सहमति दे दी है। फाइजर कंपनी ने इसी वर्ष 5 करोड़ टीके उपलब्ध कराने का संकेत दिया है। अमेरिकी कंपनी फाइजर ने  बोला था कि वह 2021 में ही पांच करोड़ टीके उपलब्ध कराने के लिए तैयार है, लेकिन वह क्षतिपूर्ति सहित कुछ शर्तों में छूट चाहती है। फाइजर इंडिया में चौथी वैक्सीन होने वाली है। जिससे पहले भारत के लोगों को कोवीशील्ड, कोवैक्सीन और रूस की स्पूतनिक वैक्सीन दी जा रही है।

दिल्ली में बारिश के चलते गर्मी से मिली राहत, आज फिर चल सकती है तेज आंधी

मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने कोविड अनाथों और विधवाओं के लिए इस योजना का किया एलान

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज करेंगे पीएम मोदी से मुलाकात

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -