कपडे उतारो और ले जाओ तीन गुना वेतन : महाराष्ट्र सरकार

फाइन ऑर्ट्स कॉलेजों के स्टूडेंट्स के लिए पोज देने वाली मॉडलों का महाराष्ट्र सरकार ने मेहनताना बढ़ाने का फैसला लिया है. हालांकि, यह फैसला काफी विवादित है क्योंकि सरकार ने न्यूड पोज देने वाली मॉडलों के मेहनताने में तीन गुणा की बढ़ोतरी की है लेकिन वहीं सेमी-न्यूड और पुरे कपड़े पहनने वाली मॉडलों का मेहनताना उनके मुकाबले कम बढ़ाया गया है. एक फूल-डे सेशन के लिए पहले 300 रुपए पानी वाली न्यूड मॉडल्स अब 1000 रुपए पाएंगी वहीं सेमी-न्यूड पोज देने वाली मॉडल्स को अब 205 के मुकाबले 600 रुपए मिलेंगे. वहीं, पूरी तरह से कपड़े में ढंकी मॉडल्स को पहले का दुगना यानी 400 रुपए मिलेंगे. इससे पहले फरवरी 2011 में मॉडल्स के मेहनताने में बढ़ोतरी की गई थी.

नए रेट्स इसी एकेडमिक सीजन से लागू हों जायेंगे. औरंगाबाद के गवर्नमेंट ऑर्ट कॉलेज के डीन गोविंद पवार ने एक अंग्रेजी अखबार को बताया कि लाइफ मॉडल्स मिलने में काफी दिक्कत होती है. ड्राइंग सेशन छह से ज्यादा घंटे चलते हैं. इतने लंबे समय तक पोज देने के लिए मॉडल्स में बहुत ही धैर्य की आवश्यकता होती है. पवार ने कहा, ''हमने न्यूड लाइफ मॉडल्स के ड्राइंग सेशन को लगभग बंद ही कर दिया है क्योंकि कोई पूरे सेशन तक न्यूड होने को तैयार नहीं होता. यहां तक ऑर्ट के लिए भी कोई ऐसा नहीं करना चाहता.

यही नहीं, सेमी-न्यूड मॉडल्स भी बड़ी मुश्किल से मिल रहे हैं. कम मेहनताना होने के कारण पूरे कपड़े में भी मॉडल्स का मिलना मुश्किल है. स्टूडेंट्स को अपनी दोस्तों को पोज के लिए मनाना पड़ता है तब जाकर कहीं उनकी प्रैक्टिस हो पाती है. पुणे के भारतीय विद्यापीठ कॉलेज ऑफ फाइन ऑर्ट्स की प्रिंसिपल अनुपमा पाटिल ने कहा, 'इस प्रकार के ड्राइंग सेशन हमारे सलेब्स का बहुत ही अहम हिस्सा हैं. मॉडल्स की फीस बढ़ाए जाने से स्टूडेंट्स को इस सेशन में आसानी होगी. आपको बता दें कि महाराष्ट्र में दर्जनों फाइन ऑर्ट्स कॉलेज हैं जिसमें चार सरकारी हैं, दो मुंबई में चलते हैं और एक नागपुर और एक औरंगाबाद में चलता है. इसके अलावा 150 कॉलेज डिप्लोमा कोर्सेज ऑफर करते हैं.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -