'अंबेडकर' के नाम पर जल उठा आंध्र प्रदेश, हिंसक भीड़ ने विधायक और मंत्री के घर फूंके, पुलिस पर पथराव

विशाखापत्तनम: आंध्र प्रदेश के कोनासीमा जिले का नाम बदलने के विरोध में मंगलवार (24 मई 2022) को अमलापुरम में उग्र विरोध प्रदर्शन किया गया। हिंसक भीड़ ने प्रदेश के परिवहन मंत्री पी विश्वरूपा और मुम्मिडीवरम के MLA पी सतीश के घर में आग लगा दी। पुलिस पर भी पत्थरबाज़ी की और कई वाहन फूंक दिए। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, हिंसक भीड़ जिले का नाम बीआर अंबेडकर कोनासीमा करने का विरोध कर रही थी।

सूबे की सत्ताधारी पार्टी YSR कांग्रेस ने इस हिंसा के लिए असामाजिक तत्वों को जिम्मेदार करार दिया है। वहीं विपक्षी दलों ने जगनमोहन रेड्डी सरकार पर स्थिति को नियंत्रित करने में विफल रहने का इल्जाम लगाया है। राज्य के मुख्य विपक्षी दलों तेलुगु देशम पार्टी (TDP), भाजपा, जन सेना और कांग्रेस ने अमलापुरम में स्थिति को काबू करने में नाकाम रही सरकार पर हमला बोला है। TDP के अध्यक्ष एन चंद्रबाबू नायडू ने एक बयान में कहा है कि, 'कोनासीमा में आगजनी दुर्भाग्यपूर्ण है जिसे शांति के लिए जाना जाता है। गृह मंत्री ने एक गंभीर मुद्दे पर निराधार आरोप लगाए। यह पूरी तरह से सरकार और पुलिस की नाकामी है।'

वहीं, सूबे की गृह मंत्री टी वनिता ने कहा है कि भीड़ द्वारा किए गए पथराव में लगभग 20 पुलिसकर्मी जख्मी हो गए। प्रदर्शनकारियों ने एक स्कूल बस को आग लगा दी। इसको देखते हुए अमलापुरम में धारा 144 लागू कर दी गई है। स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए अतिरिक्त पुलिस फ़ोर्स भेजी गई है। एलुरु रेंज के पुलिस उप महानिरीक्षक जी पाला राजू ने कहा है कि पुलिस अमलापुरम में स्थिति को काबू करने का प्रयास कर रही है। उन्होंने बताया कि घायल पुलिसकर्मी खतरे से बाहर हैं।

अमलापुरम में 24 मई को हुई आगजनी के वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। MLA पी सतीश ने बताया कि, यह बेहद खौफनाक था। 1000 से 1500 लोगों की भीड़ ने आकर हमारे घर को आग लगा दी। वे बोतलों में पेट्रोल लेकर आए हुए थे। यह स्पष्ट रूप से संकेत देता है कि यह सब जानबूझकर किया गया है। बता दें कि जगन सरकार ने 2019 विधानसभा चुनावों के दौरान नए जिलों का वादा किया था। बीते अप्रैल सरकार ने 13 नए जिलों के गठन का ऐलान किया था, जिसके बाद राज्य में जिलों की तादाद बढ़कर 26 हो गई है। इसी ऐलान के तहत पूर्वी गोदावरी जिले से अलग कोनासीमा का गठन किया था। बीते दिनों इसका नाम बदलकर बीआर अंबेडकर कोनासीमा रख दिया गया। इसको लेकर स्थानीय लोग विरोध कर रहे हैं। उनका कहना है कि जिले का नाम नहीं बदला जाना चाहिए।

CM नीतीश संग मतभेद को लेकर आरसीपी सिंह ने दिया ये बड़ा बयान

कर्नाटक हाई कोर्ट, जहाँ जज बैठते हैं उसके पास पढ़ी जा रही नमाज़..., Video वायरल

इस राज्य में OBC आरक्षण के बिना होंगे निकाय चुनाव

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -