उपभोक्ताओं का रुझान पॉजिटिव

उपभोक्ताओं का रुझान पॉजिटिव

ड्यूश बोर्स के द्वारा किये गए सर्वेक्षण में यह बात सामने आई है कि भारत के उपभोक्ताओं के रुझानों में कुछ हद तक वृद्दि देखने को मिली है.बताया जा रहा है कि भारत के उपभोक्ताओं को इस उम्मीद में थोड़ी वृद्दि दिखी है कि सरकारी नीति का अच्छा असर होगा और इसके साथ ही वह कारोबारी माहोल को भी मदद करेगी. गौरतलब है कि एमएनआई इंडिया उपभोक्ता सूचकांक को अगस्त के दौरान 119.1 पर देखा गया था जबकि इसको जुलाई में 118.6 पर देखा जा चूका है.

MNI के एक अर्थशास्त्री फिलिप उग्लो के अनुसार यह बात सामने आई है कि RBI मौद्रिक नीति को उदार बनाने की पहल को लेकर उपभोक्ताओं के रुझान के स्थिर बने रहने में मदद मिलेगी. रिपोर्ट से यह बात भी सामने आई है कि उपभोक्ता रुझान इस साल से स्थिर बना हुआ है लेकिन सत्र 2014 में मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद से इसमें गिरावट आने लग गई थी.