अचानक हटाने से शाॅक्ड हैं मिस्त्री

नई दिल्ली ​: टाटा समूह के चेयरमैन पद से हटाए जाने के बाद साइरस मिस्त्री ने उद्योगपति रतन टाटा को और टाटा बोर्ड को ई - मेल लिखा है, जिसमें उन्होंने कहा कि वे इस तरह से हटाए जाने से परेशान हैं। उन्हें एक तरह से शाॅक लगा है। मिस्त्री ने कहा कि उन्हें अपनी बात रखने दी जाती तो यह काफी अच्छा होता।

मगर मुझे अपनी बात रखने का अवसर भी नहीं मिला। मिस्त्री ने कहा कि यह बेहद गैरकानूनी है। इसके पीेछे का कारण नहीं कहा गया। हालांकि माना जा रहा है कि बोर्ड साइरस मिस्त्री से नाखुश था। ऐसे में उन्हें हटा दिया गया। उनके कानूनी मामलों में उलझने के कारण भी हटा दिया गया।

साइरस को लेकर कहा गया कि वे केवल लाभ वाली कंपनियों पर ही ध्यान देते थे। गौरतलब है कि कंपनी ने दो अधिकारियों को अतिरिक्त निदेशक बना दिया है साथ ही रतन टाटा ने कंपनी के अंतरिम चेयरमैन के तौर पर काम संभाल लिया है।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -