प्रसव पीड़ा के समय दे पुदीने का रस

प्रसव पीड़ा के समय दे पुदीने का रस
Share:

पुदीना हाजमे के लिए भी अच्छा है. इसके सेवन से पाचन क्रिया दुरूस्त रहती है. पुदीना की चटनी बहुत स्वादिष्ट होती है. पुदीना शानदार एंटीबॉयटिक की तरह काम करता है. आइए हम आपको पुदीने के गुणों के बारे में बताते हैं.

1-उल्टी होने पर आधा कप पुदीना का रस हर दो घंटे पर रोगी को पिलाइए, इससे उल्टी आना बंद हो जाएगा.

2-ताजा-हरा पुदीना पीसकर चेहरे पर बीस मिनट तक लगा लें. फिर ठंडे पानी से चेहरा धो लें. इससे त्वचा की गर्मी समाप्त होती है.

3-पेटदर्द होने पर पुदीने को जीरा, हींग, काली मिर्च में नमक मिलाकर पीने से पेट का दर्द समाप्त हो जाता है.

4-हैजा होने पर पुदीना बहुत फायदा करता है. हैजा होने पर पुदीना, प्याज का रस, नींबू का रस बराबर-बराबर मात्रा में मिलाकर पिलाने से लाभ होता है.
महिला को प्रसव के समय पुदीने का रस पीना चाहिए, इससे आसानी से प्रसव हो जाता है.

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -