लौह अयस्क की ढुलाई दर कम करने की मांग

नई दिल्ली : इस्पात मंत्रालय चाहता है कि लौह अयस्क की ढुलाई की दरें कम हों. रेल मंत्रालय से कहा गया है कि लौह अयस्क की ढुलाई की दर कोयले की ढुलाई की दरों के बराबर होनी चाहिए. कोयले की तुलना में लौह अयस्क का भाडा 14 फीसदी ज्यादा है.

लौह अयस्क का इस्तेमाल इस्पात विनिर्माता कच्चे माल के रूप में करते हैं.इस समय लौह अयस्क की ढुलाई दर कोयले की तुलना में 14 प्रतिशत ज्यादा है.ऐसा इसलिए है क्योंकि लौह अयस्क को माल भाड़ा श्रेणी 165 में आता है, जबकि कोयला या चुने पत्त्थर आदि को माल भाडा श्रेणी 145 में वर्गीकृत किया गया है.

एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इस मसले पर इस्पात मंत्रालय रेलवे बोर्ड के स्तर पर गत अगस्त से बात कर रहा है.तीन बार बात हो चुकी है लेकिन अभी तक उनकी प्रतिक्रिया नहीं मिली है.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -