मंत्रीजी की दरियादिली, छोड़ दी अपनी सीट

नई दिल्ली :  वैसे तो हवाई जहाज की यात्रा हो या फिर बस या रेल की यात्रा ही क्यों न हो कोई भी अपनी सीट छोड़कर किसी दूसरे को देता नहीं है लेकिन केन्द्री मंत्री जयंत सिन्हा ने जरूरी हवाई यात्रा के दौरान अपनी सीट किसी और को दे दी। इसके बाद मंत्री जयंत सिन्हा की इस दरियादिली की प्रशंसा सोशल मीडिया पर हो रही है।

जिन्हें मंत्रीजी ने अपनी सीट दी थी, उसने न केवल उनका आभार जताया है वहीं ट्वीट कर इसे अच्छे दिन भी बताया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार सिन्हा और उनकी पत्नी बेंगलुरू से रांची तक का हवाई सफर कर रहे थे। इसी दौरान उन्हें इकाॅनोमी क्लास में एक युवती श्रेया प्रदीप और उनकी बीमार माॅं नजर आई।

चुंकि बीमारी की हालत में श्रेया प्रदीप की माॅं को आराम की जरूरत महसूस हो रही थी, इसे देखकर मंत्रीजी ने तुरंत ही अपनी बिजनेस क्लास वाली सीट को छोड़ते हुये दोनों को इसलिये सीट दे दी ताकि वे आराम से सफर कर सके। उस दौरान तो श्रेया को कुछ पता नहीं चला कि उन्हें किसने मदद की लेकिन थोड़ी देर बाद जब उसे मंत्रीजी के बारे में जानकारी हांसिल हुई तो वे नतमस्तक होना भूली नहीं।

भारत ने फिर दिखाई दरियादिली, 9 पाकिस्तानी मछुआरे रिहा

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -