ग्वालियर में नहीं थम रहा दूध में मिलावट का गोरखधंधा, जांच में मिले हानिकारक रसायन

Jul 29 2019 01:33 PM
ग्वालियर में नहीं थम रहा दूध में मिलावट का गोरखधंधा, जांच में मिले हानिकारक रसायन

ग्वालियर: मध्य प्रदेश के ग्वालियर चंबल संभाग में दूध में मिलावट का गोरखधंधा जोरों शोरों से चल रहा है. क्षेत्र में दूध, घी, मावा आदि में हो रही मिलावट को लेकर खुलासा होने के बाद अब स्थानीय प्रशासन और दुग्ध संघ भी सक्रिय हो गए हैं. अब आम नागरिक भी अपने घर बैठे यह पता कर सकेगा कि उसके घर पर जो दूध आ रहा है उसमें मिलावट की गई है या नहीं.

इसको लेकर सांची दुग्ध संघ ने ग्वालियर के विभिन्न चौराहों पर दूध परीक्षण शिविर लगाना आरंभ कर दिया है, इन शिविरों में बड़ी तादाद में लोग अपने घरों में आने वाले दूध के सैंपल लेकर पहुंच रहे हैं और दूध की जांच करा रहे हैं. ऐसे में यहां जो दूध आ रहा है, उसके भी सैंपल कुछ सही नहीं आ रहे हैं. वैसे तो ज्यादातर सैंपलों में पानी की मात्रा अधिक पाई जा रही है. इसके साथ ही कुछ सैंपल ऐसे भी हैं जिनमें हानिकारक केमिकल की मिलावट भी मिली है. सांची दुग्ध संघ के उप महाप्रबंधक अनुराग सेंगर ने कहा है कि जिस तरीके से ग्वालियर चंबल संभाग में दूध और उससे बने उत्पाद में मिलावट की खबरें आई थी, ऐसे में सांची में आने वाले दूध की तो हम सेंपलिंग कर लेते हैं.

उन्होंने कहा कि जो दूध सीधे घरों में सप्लाई किया जा रहा है, वह कितना शुद्ध है यह नापने के लिए एक हफ्ते तक शहर के विभिन्न क्षेत्रों में इस तरह के कैंप लगाए जाएंगे. इसके साथ ही लोगों को बताया जाएगा कि वह अपने घर आने वाले दूध की जांच कैसे कर सकते है. इसके साथ ही जो यहां सैंपल लेकर आ रहे हैं, उनकी जांच की जा रही है ताकि वह सचेत रह सकें और जिस डेयरी या दूध वाले से दूध लेते हैं उसे वह बता सकें कि उनके दूध में किस तरह की मिलावट की जा रही है.

टाइगर डे पर बोले पीएम मोदी, 2022 तक बाघों की संख्या दोगुनी करने का था लक्ष्य, हमने पहले ही पूरा किया

अंतर्राष्ट्रीय बाघ दिवस: बाघों के लिए मशहूर है भारत, जानिए रोचक बातें

ICICI ने जारी किए आंकड़े, पहली तिमाही में कमाए इतने करोड़