शारीरिक दूरी की उड़ी धज्जियां, एक ही स्थान पर जमा हुए 4000 मजदूर

महामारी कोरोना वायरस की वजह से पूरे देश में लागू किए गए लॉकडाउन की वजह से  मजदूर पलायन कर रहे हैं. हालांकि, केंद्र सरकार ने राज्य सरकारों को आदेश दिया है कि वह मजदूरों के लिए उचित व्यवस्था करें. वहीं, मणिपुर के लगभग 4000 प्रवासी श्रमिक वापस लौटने के लिए पंजीकरण के लिए बेंगलुरु के पैलेस ग्राउंड में एकत्र हुए हैं.

घर में चोरी करने के लिए गया था युवक, महिला को अकेले देख लूट ली इज्जत

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि मणिपुर के लगभग 4000 प्रवासी श्रमिक वापस लौटने के लिए पंजीकरण के लिए बेंगलुरु के पैलेस ग्राउंड में एकत्र हुए हैं. के. सुधाकर, राज्य मंत्री ने कहा कि मैंने उनसे बात की, वे चिंतित हैं और मणिपुर वापस जाना चाहते हैं लेकिन मुझे उम्मीद है कि वे बेंगलुरु लौट आएंगे क्योंकि यह उनका दूसरा घर है.

सोशल डिस्टेंसिंग के उल्लंघन पर 1000 रुपए जुर्माना, इंदौर कलेक्टर जारी करेंगे आदेश

इसके अलावा कई राज्यों से मजदूर सरकार द्वारा चालू की गई बसों और ट्रेनों के जरिए अपने गृह राज्य लौट रहे हैं. हालांकि, इस दौरान कई मजदूर हादसों का शिकार भी हो रहे हैं. उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में श्रमिकों को लेकर जा रही बस हादसे का शिकार हो गई. इस घटना में दो दर्जन से ज्यादा मजदूर घायल हो गए है. सभी घायलों को एसआरएन अस्पताल में भर्ती कराया गया है. ये बस जयपुर से पश्चिम बंगाल जा रही थी. इससे पहले भी कई मजदूर हादसों का शिकार हुए हैं. औरंगाबाद में रेलवे लाइन पर सो रहे मजदूर ट्रेन हादसे का शिकार हो गए थे. 

सितम्बर महीने में फिर होगा 'हुनर हाट' का आयोजन, नकवी बोले- 'लोकल से ग्लोबल' होगी थीम

Cyclone Amphan: राहत कार्यों में जुटी भारतीय वायुसेना, प्रभावित इलाकों में पहुंचा रही मदद

e-mind rocks-2020: बादशाह के गाने से सज गया है मंच

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -