अगर भारत के पास होती यह तकनीक, तो अभिनंदन को बंदी नहीं बना पाता पाकिस्तान

नई दिल्लीः बालाकोट एयरस्ट्राइक के हीरो कहे जाने वाले अभिनंदन वर्तमान अपने शौर्य के लिए पूरे देश में फेमस हो चुके हैं। भारत सरकार ने पुलवामा हमले की प्रतिक्रिया में पाकिस्तान के बालाकोट स्थित आतंकी कैंप को वायुसेना का मदद से ध्वस्त किया था। इस दौरान दोनों देश की वायुसेना आमने-सामने हो गई थी। इसमें भारतीय वायुसेना का एक मिग-21 बाइसन युद्धक विमान पाकिस्तानी सीमा में क्रैश हो गया था। उसमें सवार जांबाज विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान को पाकिस्तान ने बंदी बना लिया था।

इस कारवाई में एक पाकिस्तानी एफ-16 लड़ाकू विमान को भी मार गिराया गया था। अगर वक्त रहते उन्हें एंटी जैमिंग तकनीक को चालू करने का संदेश प्राप्त हो जाता, तो न तो मिग-21 क्रैश होता और न ही अभिनंदन, पाकिस्तान के बंदी बनते। दरअसल मिग-21 एंटी-जैमिंग तकनीक से संपन्न लड़ाकू विमान है। विमान का पायलट इसे तभी चालू करता है, जब उसे ऐसा करने का संदेश या आदेश प्राप्त होता है। पाकिस्तानी एफ-16 लड़ाकू विमान के पायलट ने इसी तकनीक का उपयोग करके मिग पर हमला कर दिया था।

लड़ाकू विमानों की आमने-सामने की लड़ाई को डॉग फाइट कहा जाता है। जिस समय अभिनंदन डॉग फाइट कर रहे थे, उसी समय पाकिस्तान ने एंटी-जैमिंग तकनीक का उपयोग कर दिया और अभिनंदन को वापस लौटने का संदेश नहीं मिल सका। इस कारण अभिनंदन का लड़ाकू विमान पाकिस्तानी हमले का शिकार बन गया। वर्ष 2005 में वायुसेना ने पहली बार इस तकनीक को उन्नत बनाने के लिए भारत सरकार के सामने मांग रखी थी। अगर वक्त रहते उसे डाटा लिंक नाम की नई तकनीक प्राप्त हो जाती तो दुश्मन देशों की एंटी जैमिंग तकनीक को असफल किया जा सकता था। भारत सरकार विंग कमांडर को वीर चक्र से सम्मानित करने वाली है।

 

स्कूल की तरफ से पिकनिक पर गया बच्चा नदी में डूबा, परिजनों ने लगाए लापरवाही के आरोप

GST संग्रह में 'बीमारू' राज्यों ने मारी बाजी, राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली का प्रदर्शन सबसे खराब

आजम खान ने सरकार पर लगाया गंभीर आरोप, कहा- 'हाथों में झाड़ू देना...'

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -