आखिर क्या है अफगानिस्‍तान सरकार और तालिबान के बीच वीडियो कांफ्रेंसिंग मकसद ?

आखिर क्या है अफगानिस्‍तान सरकार और तालिबान के बीच वीडियो कांफ्रेंसिंग मकसद ?

अफगानिस्‍तान सरकार और तालिबान के बीच पहली बार वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्‍यम से बातचीत शुरू हो चुकी है. इस वार्ता की मुख्य वजह अमेरिका-तालिबान समझौते है. बता दे कि इस बातचीत का मकसद दोनों तरफ से कैदियों की रिहाई का खाका तैयार करना है. इस वार्ता के दौरान दोनों ही तरफ से कैदियों के बाबत कुछ तकनीकी जानकारी साझा की गईं.गौरतलब है कि अमेरिकी तालिबान समझौते में इस बिंदु को रखा गया था कि अफगानिस्‍तान की सरकार तालिबान के सभी 5000 कैदियों को रिहा करेगी.बदले में तालिबान अफगान सरकार के एक हजार कैदियों को रिहा करेगा.लेकिन चूंकि इस वार्ता में अफगानिस्‍तान की सरकार की हिस्‍सेदारी नहीं थी इसलिए सरकार ने इस पर ये कहते हुए सवाल खड़ा कर दिया था कि ऐसी कोई शर्त समझौते में नहीं है. 

​​इन एयर होस्टेस के बल पर कोरोना वायरस से बचकर वापस लौटे 263 भारतीय

​कयास लगाए जा रहे है कि जब तक अफगानिस्‍तान की सरकार से तालिबान वार्ता के लिए राजी नहीं होता है कैदियों की रिहाई नहीं होगी.इसके अलावा ये भी शर्त रखी गई थी कि इन कैदियों की रिहाई एक साथ न होकर कुछ कुछ अंतराल पर की जाएगी और इसे भी कैदियों की तरफ से मिले आश्‍वासन पर तय किया जाएगा.अफगानिस्‍तान सरकार की इस शर्त को मानने से तालिबान ने साफतौर पर इनकार कर दिया था और वार्ता में शामिल न होने की धमकी तक दी थी.

कोरोना वायरस : शाही परिवार को लगा तगड़ा झटका, इस सदस्य की रिपोर्ट आई पॉजिटिव

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि दोनों तरफ से बातचीत की शुरुआत हो चुकी है तो माना जा सकता है कि अपने अंजाम तक ये पहुंच सकती है.अफगानिस्‍तान के अखबार टोलोन्‍यूज के मुताबिक इस बातचीत में तालिबानी नुमाइंदे दोहा से शामिल हुए थे.आपको बता दें कि यहीं पर तालिबान का राजनीतिक कार्यालय भी है.इस बातचीत की शुरुआत अमेरिका के विशेष दूत जालमे खलिजाद की दखल के बाद हुई है.इस बातचीत की जानकारी भी उन्‍होंने ही ट्वीट करके दी थी.उनका कहना है कि दोनों ही तरफ से कैदियों की रिहाई को लेकर उठाया गया कदम काफी अहम है.

​कोरोना वायरस : अमेरिका से भागने के लिए भारी रकम चुका रहे चीनी छात्र

​कोरोना वायरस : अमेरिका से भागने के लिए भारी रकम चुका रहे चीनी छात्र

आखिरों क्यों दक्षिण कोरिया से मदद मांगने पहुंचा अमेरिका ?