तेज बारिश की संभावना ने जनता को दी राहत, कई ​इलाकों में समाप्त हो सकती है गर्मी

Jul 02 2020 02:10 PM
तेज बारिश की संभावना ने जनता को दी राहत, कई ​इलाकों में समाप्त हो सकती है गर्मी

 

बीतें कुछ दिनों में कई स्थानों पर जमकर बारिश होने की संभावना है. जिसकी जानकारी मौसम विभाग की ओर से उपलब्ध कराई गई है.हरियाणा के करनाल, यूपी के नजिबाबाद, बिजनौर, मुजफ्फरनगर, खतौली, हस्तिनापुर और चांदपुर में गरज के साथ बारिश गिरने की संभावना व्यक्त की जा रही है. इस बीच दिल्ली-एसनीआर में उमस का सिलसिला जारी है. लोग भारी गर्मी और उमस से बेहाल हैं. मौसम विभाग ने कहा है कि अगले तीन-चार दिनों तक बारिश की संभावना नहीं है.

48 घंटे तक फ्रीजर में रखना पड़ा कोरोना से मरे बुजुर्ग का शव, नहीं मिली कोई सहायता

बदलते मौसम को लेकर सबंधित विभाग ने कहा कि पूर्वोत्तर भारत और पूर्वी भारत में बीते पांच दिनों में जमकर बारिश हो सकती है. राज्य में बारिश का व्यापक असर देखने को मिल सकता है. पूर्वोत्तर बिहार में मानसून 3 जुलाई तक सक्रिय रहेगा. इस दौरान राज्य के अधिकांश जिलों में भारी बरिशा का अलर्ट मौसम विभाग ने जारी किया है. मौसम विभाग ने बारिश के साथ ही वज्रपात की भी संभावना जताई है. बिहार में इस बार मानसून समय से तीन दिन पहले आया है और अभी तक राज्य में सामान्य से 92 फीसदी अधिक बारिश हुई है.

रोजगार पाने में प्रथम स्थान पर रहा ये राज्य, नहीं पड़ा कोरोना का असर

मानसून सबसे अधिक मध्य भारत में सक्रिय हो रहा है. राज्य के पश्चिमी तटीय इलाकों में बारिश के आसार नजर आ रहे है. महाराष्ट्र, गुजरात, कर्नाटक और गोवा के तटीय भागों में बारिश होने के पूरे आसार हैं. जिस वजह से माना जा रहा है कि महाराष्ट्र के अधिकांश हिस्सों में जमकर बारिश हो सकती है. बता दे कि अगले चौबीस घंटे में गुजरात में बारिश के आसार हैं. वही, केरल और दक्षिण तमिलनाडु में बारिश की संभावना कम है. हालांकि कुछ स्थानों पर बारिश हो सकती है. आंध्र प्रदेश के उत्तरी तटीय इलाकों में बारिश की गतिविधियां देखने को मिल सकती हैं. गंगीय पश्चिम बंगाल, बिहार, झारखंड और पूर्वी उत्तर प्रदेश में पिछले दो दिनों से मानसून की सक्रियता काफी कम हुई है. हालांकि इन राज्यों के कुछ स्थानों पर हल्की बारिश हो सकती है. अब पूर्वोत्तर भारत के राज्यों में मूसलाधार बारिश की संभावना नहीं है.

मुजफ्फरनगर समेत में इन शहरों में बढ़ा कोरोना का खौफ

लश्कर-ए-तैयबा के आतंकियों ने ली CRPF पर हुए हमले की जिम्मेदारी, एक जवान हुआ था शहीद

इंदौर : फीवर क्लीनिक में 52 हजार 656 लोग पहुंचे, कम हुए सर्दी, खांसी व बुखार के मरीज