महफ़िल में हमारे जूते खो गए

महफ़िल में हमारे जूते खो गए

ौर फरमाइए
अर्ज़ किया है -
महफ़िल में हमारे जूते खो गए
तो हम घर कैसे
जायेंगे..?
,
,
,
महफ़िल में हमारे जूते खो गए
तो हम घर कैसे
जायेंगे..?
,
,
.
.
किसी ने कहा - आप
शायरी तो शुरू कीजिये..!
.
इतने मिलेंगे की आप गिन
नहीं पाएंगे..!