एक अफवाह के चलते मेरठ में 100 से ज्यादा झुग्गियों में आग, इंटरनेट बंद

उत्तर प्रदेश के मेरठ सदर इलाके में बसी हुई बस्ती अब जलकर खाक हो गई है. जी हां... यहां के लोगों ने तिनका-तिनका जुटा कर जो अपना आशियाना खड़ा किया था वो अब जलकर खाक हो चुका है और यह सब महज एक अफवाह के कारण हुआ है. सूत्रों की माने तो मेरठ कैंट के थाना सदर इलाके की मलिन बस्ती में कैंट बोर्ड की टीम पुलिस के साथ अवैध निर्माण हटवाने गई थी. इस दौरान यह बात फैल गई थी कि बोर्ड और पुलिस की टीम अवैध वसूली के मकसद से पहुंची है. बस फिर क्या था लोगों ने आव देखा ना ताव और उन्होंने पुलिस से कहासुनी करना शुरू कर दी.

इस दौरान बात इतनी बिगड़ गई कि लोगों ने पुलिस पर पथराव शुरू कर दिया. जिस वजह से पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा. इलाके के लोगों का ये भी आरोप है कि पुलिस की टीम ने ही इलाके में आग लगा दी. वही इन झुग्गियों में मौजूद गैस सिलेंडरो ने आग को और ज्यादा बढ़ा दिया और फिर देखते ही देखते यहां करीब 100 झुग्गियां जल कर खाक हो गई. जिसके बाद इस भयानक आग पर काबू पाने के लिए आसपास की जिलों से फायर ब्रिगेड की मदद ली गई. फायर ब्रिगेड ने घंटो तक मशक्कत की जिसके बाद आग पर तो काबू पा लिया गया लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी.

आग लगने के बाद गुस्साई भीड़ सड़कों पर पहुंच गई और उन्होंने सड़क को जाम कर दिया साथ ही भीड़ ने कई वाहनों को अपना शिकार बनाया. जैसे-जैसे मामला बढ़ गया तो फिर इसे गम्भीरता से देखते हुए आस-पास के इलाकों से पुलिस बल को बुला कर तैनात कर दिया गया. मौके पर एनडीआरएफ की टीम भी पहुंच गई. इस बवाल के कारण कई सारे लोगों को चोट भी आई है. लोगों का आरोप ये भी है कि पुलिस के हथियार और वायरलेस को भी छीना गया था. हालांकि फ़िलहाल इस मामले की जांच की जा रही है कि आखिरकार यह आग कैसे और किसने लगाई. मामला और ज्यादा ना बढ़ जाए इसलिए प्रशासन ने इलाके की इंटरनेट सेवा को कुछ देर के लिये बंद कर रखा है.

Video : अपनी ही पार्टी के विधायक की सांसद ने कर दी जूतों से पिटाई

कांग्रेस का दामन थाम सकते हैं हार्दिक पटेल, जामनगर से चुनाव लड़ने की संभावना

न्याय की देवी एक स्त्री है, हर न्यायाधीश में होने चाहिए नारी वाले गुण - जस्टिस सिकरी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -