नसबंदी शिविर में गंभीर लापरवाही, ऑपरेशन के बाद बेतरतीब ढंग से जमीन पर लिटाया

नसबंदी शिविर में गंभीर लापरवाही, ऑपरेशन के बाद बेतरतीब ढंग से जमीन पर लिटाया

डिंडौरी:भारत के राज्य मध्य प्रदेश में स्वास्थ्य सुविधाओं के नाम पर अव्यवस्थाओं की खबरें लगातार सामने आ रही हैं. ऐसा ही एक मामला डिंडौरी जिले के करंजिया सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में सामने आया है. यहां अव्यवस्थाओं के बीच महिला नसबंदी शिविर का आयोजन किया गया. टार्गेट पूरा करने के चक्कर में स्वास्थ्य विभाग के द्वारा विशेष संरक्षित बैगा जनजाति के महिलाओं की नसबंदी कर दी गई. हद तब हो गई, जब नसबंदी ऑपरेशन के बाद महिलाओं को बेतरतीब ढंग से जमीन पर लिटा दिया गया. तस्वीरों में देखा जा सकता है कि बेहोश महिलाओं को पुरुष कर्मचारी किस तरह से जमीन पर लिटाते नजर आ रहे हैं. 

पश्चिम बंगाल: राज्यपाल और मुख्यमंत्री के बीच मिट सकता है तनाव, मिले संकेत

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार नसबंदी ऑपरेशन के बाद महिलाओं को एक दूसरे से सटाकर लिटाया गया है. जिससे इंफेक्शन फैलने का खतरा भी बना हुआ है. परिजनों ने स्वास्थ्य विभाग पर नसबंदी शिविर में लापरवाही का आरोप लगाया है. परिजनों की मानें तो, अस्पताल प्रबंधन के द्वारा न भोजन की व्यवस्था की गई है और न ही वाहनों का इंतज़ाम किया गया है. ऐसे में उन्हें खुद के पैसे खर्चकर अस्पताल पहुंचना पड़ा. 

हैदराबाद कांड: उमा भारती ने दिया धमाकेदार बयान, कहा-उस बहन की आत्मा को...

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि इस नसबंदी शिविर में करीब आधा दर्ज़न बैगा जनजाति की महिलाओं का ऑपरेशन किया गया है. जिनके नाम फड़की बाई, कुन्ना बाई, अनीता और मोहती बाई हैं लेकिन, जब ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर डॉक्टर सूरज उद्दे से सवाल किया तो, उन्होंने बैगा महिलाओं की नसबंदी करने से इंकार कर दिया. अव्यवस्थाओं को लेकर डॉक्टर साहब गोलमोल बातें कर अपनी जवाबदारियों से पल्ला झाड़ते रहे. ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर शिविर में 30 महिलाओं की नसबंदी ऑपरेशन होना बता रहे हैं. जबकि 40 से ज्यादा महिलाओं की नसबंदी की गई.

INX मीडिया मामले में बेल पर छूटे चिदंबरम, कहा- मेरे जमानत आदेश को पढ़ लें भाजपा नेता...

अधीर रंजन पर स्‍मृति का निशाना, कहा- आप यहां आज चीख रहे हैं इसका मतलब...

मायावती को बड़ा झटका, पूर्व मंत्री समेत दो बसपा नेता भाजपा में शामिल