शिवसेना के बाद मीट बैन के विरोध में उतरी मनसे, कोर्ट पहुंचे कारोबारी

मुंबई : पर्युषण पर्व को लेकर मुंबई के कुछ क्षेत्रों में मांस विक्रय को प्रतिबंधित कर दिए जाने का मामला थमने का नाम नहीं ले रहा है. एक और जहाँ सरकार के इस फैसले का उनकी सहयोगी पार्टी शिव सेना लगातार विरोध कर रही है, वहीँ दूसरी और अब इस विवाद में राज ठाकरे की पार्टी महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) भी कूद पड़ी है. मनसे के कार्यकर्ताओं ने गुरुवार को मुंबई के दादर इलाके के आगर बाजार में चिकन बेचकर मांस बैन का विरोध किया. इसके अलावा मुंबई के मीट कारोबारी भी सरकार के इस फैसले के खिलाफ खड़े हो गए है. मीट कारोबारी सरकार के फैसले के खिलाफ बॉम्बे हाईकोर्ट पहुँच गए है.

गौरतलब है कि इस मामले को शिव सेना पहले ही अपना विरोध दर्ज करवा चुकी है. शिव सेना ने जैन समुदाय को मांस बैन का जिम्मेदार ठहराकर उन पर बड़ा हमला बोला है. शिवसेना के मुखपत्र सामना में जैन समुदाय को चेतावनी दी गई है कि वह मुस्लिम तुष्टिकरण की राह पर ना चले. शिवसेना ने जैन समुदाय पर आरोप लगाते हुए कहा कि वह धर्म के नाम पर शाकाहार को सभी लोगों पर थोप रहा है.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -