मीट हुआ बैन तो करोड़ों का होगा नुकसान

दादरी इलाके में गोमांस को लेकर एक बहुत ही बड़ा विवाद सामने आया है, बताया जा रहा है कि गोमांस को लेकर अल्पसंख्यक समुदाय के एक व्यक्ति की हत्या की गई है जिसे लेकर गोमांस को बैन किये जाने की खबरे भी सामने आई है. बीफ बैन को लेकर मांस निर्यातक इंडस्ट्री भी असमंजस में आ गई है. इंडस्ट्रीज का यह मानना है कि इस तरह की बातों का उनके उद्योग पर बुरा असर हो सकता है. गौरतलब है कि इस समय में देश का मीट निर्यातक का उद्योग सालाना 6.2 अरब डॉलर पर पहुँच चूका है. और इसमें से केवल उत्तर प्रदेश का ही आधा हिस्सा बताया जा रहा है.

मामले में निर्यातकों का यह कहना है कि यदि बीफ को लेकर कोई भी बात सामने आती है तो इससे पूरी बीफ इंडस्ट्री प्रभावित होती है. और इसके कारण ना केवल करोडो का नुकसान होना है बल्कि साथ ही लाखों लोगों को उनकी नौकरी से भी हाथ धोना पड़ सकता है. निर्यातकों ने इस मामले को लेकर यह भी कहा है कि वे गाय का मांस एक्सपोर्ट नहीं करते है बल्कि जिस मांस का वे एक्सपोर्ट करते है वह भैंस का होता है.

इस कारण उनका यह कहना है कि यदि मीट को बैन कर दिया जाता है तो इससे उन्हें बहुत अधिक नुकसान का सामना करना पड़ सकता है. उनका यह भी कहना है कि यदि निर्यात पर प्रतिबंध लगता है तो इससे लाखों लोग प्रभावित होंगे और साथ ही इंडस्ट्री को भी करोड़ों के नुकसान का सामना करना पड़ेगा. इस मामले के बारे में ही मीट निर्यातक एजेंसी का यह भी कहना है कि वे मीट के सबसे बड़े एक्सपोर्ट्स है और सरकार को उन सभी व्यक्तियों के बारे में भी सोचना चाहिए जिनकी रोजी रोटी इसपर टिकी हुई है.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -