MCX माफिया नितिन चोपड़ा राजनेताओ की शरण में करता था काला कारोबार

रायपुर। MCX माफिया नितिन चोपड़ा पर पुलिस ने अपना शिकंजा मजबूत कर लिया है और अब इस घोटाले से पर्दा उठाने के लिए पुलिस ने तफतीश की गति बड़ा दी है। नितिन चोपड़ा को जब पुलिस ने दबोचा तो उससे जुड़े कई कारोबारियों के गले में हड्डी अटक गई। मास्टरमाइंड नितिन ने अपने काले कारोबार में इस तरह से सतर्कता बरती है की पुलिस के चंगुल में फसने के बाद भी किसी को उसके काले साम्राज्य की भनक नही लग सके। लेकिन पुलिस ने अपनी तफ्तीश में जब नितिन चोपड़ा के काले कारनामो की लिस्ट खंगाली तो MCX के काले कारोबार से जुड़े कई सरगनाओं का खुलासा हुआ है। 

MCX मास्टरमाइंड नितिन चोपड़ा के बारे में पुलिस अधिकारियों से जानकारी तलब की गई तो आई जी रायपुर जी पी सिंह ने न्यूज़ ट्रैक को बताया की नितिन चोपड़ा MCX और क्रिकेट सट्टा का एक बड़ा माफिया है जिसने देशभर में अपना नेटवर्क फैला रखा है और उस नेटवर्क के तहत कई बड़े सटोरिए और हवाला कारोबारी शामिल है और उनमे से कई के खिलाफ पूर्व मे भी अपराध कायम किए गए है । आई जी जीपी सिंह ने बताया की जिस फ्लैट मे नितिन चोपड़ा रहता था उसका किराया करीब एक लाख रुपए महिना था जो की अभिनेत्री रेहाना मल्होत्रा के अकाउंट से दिया जाता था।

सूत्रो के मुताबिक नितिन चोपड़ा ने कई बड़े हवाला कारोबारियों के साथ भी अपना तगड़ा नेटवर्क बना रखा है और उसने पूछताछ के दौरान हवाला कारोबार से जुड़े कई माफियाओ के नाम भी उजागर किये है। आने वाले दिनों में इन कारोबारियों पर भी शिकंजा कसने के संकेत अफसरों ने दिए हैं। उनका कहना है कि सभी कारोबारियों को पूछताछ के लिए तलब किया जाएगा। 

सूत्रो के मुताबिक नितिन चोपड़ा ने पुलिस के सामने महाराष्ट्र के कई हवाला, वायदा कारोबारियों के नाम उगले है। पुलिस पूछताछ मे उसने मुंबई के हवाला महारथी आलोक खंजन, हैदराबाद के मुराद भाई, नागपुर के राजेश अग्रवाल, नमित जैन, एकांश जैन, रायपुर के संजय कोठारी, इम्तियाज हैदर, सुनील दम्मानी और मालू जैसे दिग्गज माफियाओ के नाम बताए है । ये सभी नितिन के काले कारोबार मे शामिल थे। इनमे आलोक खंजन हवाला कारोबार का एक ऐसा माफिया है जो नितिन चोपड़ा के करोड़ों रुपए का ट्रैंजैक्शन दुबई समेत देशभर के कई शहरो मे करता था।

जानकारी के मुताबिक ने नितिन चोपड़ा ने कई सटोरियो के साथ मिलकर करीब 4 साल पहले ग्वार की ट्रेडिंग कर भाव बहुत ज्यादा बढ़ा दिए। वर्ष 2012 मे ग्वार के भावो मे अप्रत्याशित रूप से तेजी आने लगी और ग्वार सीड- ग्वार गम के के भाव आसमान छूने लगे। नितिन चोपड़ा ने अपने ही गिरोह के कई सट्टाखोरीयों के साथ मिलकर ग्वार के भाव को रुपए 3000 प्रति क्विंटल से बढ़ाकर बहुत ही कम समय मे करीब रुपए 35,000 प्रति क्विंटल तक पहुंचा दिया। अस्पष्ट जानकारी के अनुसार खबर यह भी मिली है जिस समय यह धांधली की गई थी उस समय निवेशको और व्यापारियो को करीब 80 हजार करोड़ रुपए का नुकसान हुआ था। हैरान करने वाली बात यह है की उस समय सिर्फ कुछ हो लोगो को ही फायदा हुआ। ऐसा माना जा रहा है की जिन लोगो ने फायदा कमाया वह नितिन चोपड़ा के गिरोह के ही मंझे हुए माफिया थे। इस तरह घोटाले की रकम का बड़ा हिस्सा नितिन की जेब में चला गया। वही नितिन चोपड़ा के सिर पर कांग्रेस के नामचीन और बड़े राजनेताओ का हाथ था जिसके कारण MCX खोटाला लम्बे समय तक फलता फूलता रहा।

एनसीडीएक्स का यह काला कारोबार वायदा बाज़ार आयोग और सरकार की आंखो मे धूल झोंक कर किया जा रहा था। जब सरकार ने अपनी आँखें खोली और उसे इस घोटाले का एहसास होने लगा तो मार्च 2012 मे इसे बैन कर दिया। अब सूत्र कह रहे है की धनिया के कारोबार मे भी इसी प्रकार की ट्रेडिंग करके भाव बढ़ाए जा रहे है। जिसपर अभी तक वायदा बाज़ार आयोग और सरकार ने कोई ध्यान नही दिया है। नितिन चोपड़ा की गिरफ्तारी के बाद भी उसका नेटवर्क अभी भी सक्रिय बना हुआ है और MCX का काला कारोबार चल रहा है। सरकार की अनदेखी से पहले भी जनता को लगभग 80 हज़ार करोड़ का नुकसान हुआ है। अगर वायदा बाज़ार आयोग और सरकार समय रहते नही जागे तो एक बार फिर जनता को बड़ा खामियाजा भुगतना पड़ेगा।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -