लोकसभा चुनाव: 'गेस्ट हाउस काण्ड' भूलाकर, मुलायम के लिए वोट मांगती नज़र आएंगी मायावती !

लोकसभा चुनाव: 'गेस्ट हाउस काण्ड' भूलाकर, मुलायम के लिए वोट मांगती नज़र आएंगी मायावती !

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के चुनावी दंगल में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को शिकस्त देने के लिए बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की सुप्रीमो मायावती, 1995 के गेस्‍ट हाउस कांड को भुलाकर अपने कट्टर विरोधी दल, समाजवादी पार्टी (सपा) के संस्थापक मुलायम सिंह के लिए वोट मांगती दिखाई दे सकती हैं। लोकसभा चुनाव के लिए राज्य में एसपी, बीएसपी और आरएलडी के महागठबंधन को जीत दिलाने के लिए सपा अध्‍यक्ष अखिलेश यादव और मायावती 12 रैलियां करने वाले हैं। 

इजरायल ने गाज़ा पट्टी पर की एयर स्ट्राइक, आतंकी अड्डों को बनाया निशाना

सूत्रों की मानें तो सपा ने महागठबंधन के चुनाव प्रचार का कार्यक्रम तैयार किया है। इस कार्यक्रम में रैलियों की संभावित तारीखें और स्‍थान तय किए गए हैं। बताया जा रहा है कि इस सूची में 19 अप्रैल को मैनपुरी में रैली प्रस्तावित है। इस रैली में यूपी के पूर्व सीएम मुलायम सिंह यादव के साथ बसपा सुप्रीमो मायावती भी मंच साझा करते नजर आ सकती हैं। 

क्या है गेस्ट हाउस कांड ?
उल्लेखनीय है कि वर्ष 1992 में मुलायम सिंह यादव ने जनता दल से अलग होते हुए समाजवादी पार्टी बनाई थी। पार्टी बनाने के बाद भाजपा का रास्ता रोकने के लिए मुलायम ने 1993 में बसपा से हाथ मिलाया और राज्य में सरकार बनाई। हालांकि मायावती इस सरकार का हिस्सा नहीं  थीं। किन्तु, 2 जून 1995 को बसपा ने मुलायम सरकार से किनारा करते हुए समर्थन वापसी का कर दिया और जिससे मुलायम सरकार अल्पमत में आ गई। फिर विधायकों की जोड़ तोड़ का खेल शुरू हो गया, लेकिन जब दाल नहीं गली, तो सपा कार्यकर्ता स्टेट गेस्ट हाउस जा पहुंचे, इस गेस्ट हाउस में मायवती अपने कुछ साथियों के साथ थी, जिनके साथ सपा कार्यकर्ताओं ने बदतमीजी की, कहा ये भी जाता है कि मायावती को मार डालने का भी प्रयास किया गया था।

खबरें और भी:-

आतंक के खिलाफ भारत की बड़ी कामयाबी, अब फ्रांस जब्त करेगा जैश की संपत्ति

स्मृति ईरानी के खिलाफ दायर हुई याचिका, गुजरात हाईकोर्ट ने सरकार से मांगा जवाब

लोकसभा चुनाव: आज ओडिशा में होंगे राहुल गाँधी, चिकित्सकों से करेंगे सीधा संवाद