उत्तरप्रदेश : प्रवासी मजदूरों को लेकर सरकार और विपक्ष भिड़े, मायावती ने कही यह बात

राजनीतिक जगत में प्रवासी श्रमिकों और कामगारों के पलायन का मद्दा गरमा गया है. कांग्रेस और यूपी सरकार के बीच दो दिनों से चल रहे वार के बीच बहुजन समाज पार्टी (BSP) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने कहा है कि यदि कांग्रेस पार्टी के पास वास्तव में बसें हैं तो उन्हें लखनऊ भेजने में कतई भी देरी नहीं करनी चाहिये, क्योंकि यहां भी प्रवासी भारी संख्या में अपने घरों में जाने के लिए परेशान हैं. उन्होंने केंद्र सरकार से अपील है कि वह राज्यों की आर्थिक स्थिति को खास ध्यान में रखकर खुद अपने खर्च से श्रमिक प्रवासियों को बसों और ट्रेनों से सुरक्षित घर भिजवाए.

प्रवासी मजदूरों की जल्द समाप्त होगी परेशानी, यह राज्य देने वाला रोजगार

मंगलवार को बसपा प्रमुख मायावती ने ट्वीट कर कहा कि 'केद्र सरकार से अपील है कि वह राज्यों की आर्थिक स्थिति को खास ध्यान में रखकर तथा मानवता व इंसानियत के नाते भी खुद अपने खर्च से प्रवासी श्रमिकों को बसों और ट्रेनों आदि से सुरक्षित भिजवाने के लिए जरूर सकारात्मक कदम उठाए. इसके साथ ही राज्यों की सरकारों से भी यह कहना है कि वे अपने-अपने राज्यों में श्रमिक प्रवासियों की खाने और ठहरने व उन्हें सरल प्रक्रिया के जरिये बसों व ट्रेनों आदि से भेजने की उचित व्यवस्था जरूर करें.

मजदूरों का पलायन जारी, मुख्य सचिव अजय भल्ला ने पत्र में लिखी यह बात

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि बसपा प्रमुख मायावती ने अपने ट्वीट में आगे कहा कि बीएसपी का यह भी कहना है कि यदि कांग्रेस पार्टी के पास वास्तव में 1000 बसें हैं तो उन्हें लखनऊ भेजने में कतई भी देरी नहीं करनी चाहिये, क्योंकि यहां भी प्रवासी श्रमिक और कामगार भारी संख्या में अपने घरों में जाने का काफी बेसबरी से इंतजार कर रहे हैं.

इस चिड़ियाघर में पाया गया था अंतिम दुर्लभ थायलासिन जानवर

जर्मनी पर बढ़ा संकट तो AFD ने कटा किनारा

प्रियंका और योगी सरकार में तनातनी तेज़, कांग्रेस बोली- शाम 5 बजे तक पहुँच जाएंगी 1000 बसें

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -