RSS का एजेंडा शिक्षण संस्थानों में थोपने का प्रयास कर रही सरकार

लखनऊ : बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख और सांसद मायावती ने केंद्र सरकार को देश के उच्च शिक्षण संस्थानों में आरएसएस का एजेंडा थोपने का प्रयास करने की आलोचना की। उन्होंने आरोप लगाया कि उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर भारतीय जनता पार्टी और समाजवादी पार्टी विश्वविद्यालयों में माहौल खराब करने में लगी हुई है। उल्लेखनीय है कि इस तरह के बयान में मायावती द्वारा कहा गया है कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार में दो वर्षों के दौरान उच्च शिक्षण संस्थानों का राजनीतिकरण हो गया है। 

इसके चलते कैंपस राजनीतिक अखाड़े में बदलते जा रहे हैं। हैदराबाद और जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय का नाम भी गलत कारणों से खराब हो गया। अब केंद्रीय मानव संसाधन मंत्रालय की दखलन्दाजी लगातार बढ़ती जा रही है। बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने उद्योगपति विजय माल्या को ब्रिटेन से भारत वापस लाने की मांग भी की। उनका कहना था कि यदि ऐसा नहीं हुआ तो यह पूरी तरह से स्पष्ट हो जाएगा कि माल्या को पहले देश से भगाने और उसे बचाने की साजिश में केंद्र की एनडीए सरकार की मिलीभगत मानी जा रही है।

मायावती ने आरोप लगाते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार एक तरह से एनडीए की मिलीभगत है। विजय माल्या के देश चले जाने को उन्होंने गंभीर आर्थिक अपराध बताया है। उनका कहना था कि देश को लूटने का कार्य केंद्र सरकार द्वारा किया गया है। सरकार को देश से विदेश जाने के लिए कह दिया गया। मायावती ने मांग की है कि उन्हें न्यायालय के हस्तक्षेप के बाद ब्रिटेन से वापस लाकर न्यायालय के कठघरे में खड़ा कर दिया जाना चाहिए। 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -