क्या कारों पर कम होना चाहिए जीएसटी ? मारुति सुजुकी के चेयरमैन ने बोली यह बात

लॉकडाउन के कारण आई गिरावट के बाद घरेलू ऑटोमोबाइल सेक्टर कारों पर लगने वाली 28 फीसदी की जीएसटी दरों को 18 फीसदी करने की मांग करता रहा है, ताकि बिक्री में बढ़ोतरी की जा सके. लेकिन देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया के चेयरमैन आरसी भार्गव ने इसके उलट बात करते हुए दरों में कमी नहीं करने की बात कही है. हालांकि इससे पहले मारुति भी जीएसटी दरों में कटौती की मांग करती रही है.

आखिर कोरोना प्रकोप से कितनी प्रभावित होगी ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री

इस मामले को लेकर मारुति सुजुकी के चेयरमैन आरसी भार्गव ने बताया कि फिलहाल वाहनों पर माल एवं सेवाकर (जीएसटी) की दर कम करने का यह सही वक्त नहीं है. साथ ही इससे कुछ लाभ नहीं होने वाला है क्योंकि वाहन उद्योग का उत्पादन इस समय सबसे निचले स्तर पर है. एक वीडियो कॉन्फ्रेंस के दौरान भार्गव ने कहा कि मौजदा वक्त में कम से कम अगले महीने या दो महीने के लिए सभी ऑटोमोबाइल निर्माताओं का उत्पादन बेहद कम रहने वाला है. ऐसे समय में जीएसटी कटौती का कोई मतलब नहीं होगा.

इस ऑटोमोबाइल कंपनी ने फिर से खोले डीलरशिप

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि ऑटो क्षेत्र के दिग्गजों की केंद्र के साथ हुई बैठक में सेक्टर को पुनर्जीवित करने के लिए कई सुझाव दिए गए थे, जिसमें सबसे अहम था कि वाहनों पर जीएसटी की दरों में कटौती की जाए. इस बैठक में भार्गव भी शामिल थे. उनका कहना था कि जीएसटी की दरों में कटौती का फायदा तब होगा जब उत्पादन अपने चरम पर होगा और मांग से ज्यादा आपूर्ति होगी. तब इसकी हमें आवश्यकता पड़ेगी. लेकिन फौरी तौर पर उद्योग जगत को इसकी जरूरत नहीं है.

क्या Bentley कार निर्माण में सेफ्टी नियमों का कर रही पालन ?

इन दमदार इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर्स की खरीदी पर आपके घर की बढ़ जाएगी शोभा

पीएम मोदी के राहत पैकेज से इन कंपनियों को मिल सकता है फायदा

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -