मरणोपरांत शहीद हीरा झा को मिला शौर्य चक्र सम्मान

नई दिल्ली : बुधवार को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने राष्ट्रपति भवन में आयोजित समारोह में कुल 58 सुरक्षा कर्मियों को सम्मानित किया। इन्हीं में से एक सीआरपीएफ के सातंवी बटालियन के सेकेंड इन कमांडर रह चुके हीरा कुमार झा भी थे। मरणोपरांत शहीद की पत्नी हीरा झा ने इस शौर्य सम्मान को ग्रहण किया।

4 जुलाई 2014 को बिहार के जमुई जिले के लखारी गांव में नक्सलियों के साथ हुए मुठभेड़ में वो शहीद गए थे। हीरा कुमार 1999 से सीआरपीएफ में सेवा देने वाले एक बहादुर सिपाही थे। गिरिडीह शहर के बेस कैंप में उन्हें सूचना मिली थी कि झारखंड-बिहार के बॉर्डर पर नक्सली छिपे हुए है।

इसके बाद वो सर्च करते-करते जमुई पहुंच गए। तभी नक्सलियों ने हीरा कुमार की टीम पर फायरिंग शुरु कर दी। जवाबी फायरिंग में टीम ने भी फायरिंग की। लेकिन तभी नक्सलियों ने ग्रमीणों को आगे कर दिया और जंगल की ओर भाग निकले।

हीरा की कई गोलियां नक्सलियों को लगी, लेकिन नक्सलियों द्वारा की गई फायरिंह हीरा को लग गई और वो शहीद हो गए। इस ऑपरेशन में कई मोस्ट वांटेड नक्सलियों को भी सीआरपीएफ ने गिरफ्तार किया था। सीआरपीएफ से पहले हीरा कुमार बीएसएप में भी अपनी सेवा दे चुके है।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -