बाजारों में सन्नाटा, हाथ पर हाथ धरे बैठे व्यापारी

रांची :  नोटबंदी का असर आम लोगों के साथ ही उन व्यापारियों पर भी हुआ है, जिन्हें दुकान खुलने के बाद से ही ग्राहकों से फुर्सत नहीं मिलती थी, लेकिन जब से नोटबंदी का ऐलान हुआ है तभी से दुकानदार हाथ पर हाथ धरे बैठे हुये नजर आ सकते है और बाजार में सन्नाटा दिखाई दे रहा है।

व्यापारियों की यदि माने तो एक सप्ताह से न तो ग्राहक आ रहे है और न ही बैंकों से नोट बदलाने में सफलता मिल सकी है, इसके चलते बाजार की स्थिति खराब हो गई है। व्यापारियों का कहना है कि पांच और एक हजार रूपये के नोट बंद होने के बाद से ग्राहक तो जैसे गायब ही हो गये है। व्यापारियों ने बताया कि बाजार में न नोट है और न ग्राहक है। दूध से लेकर किराना और किराना से लेकर कपड़े तक की दुकानों के व्यापारियों को जैसे कोई काम धंधे ही नहीं है।

हालांकि कुछ दवाईयों की दुकाने इसलिये चल रही है क्योंकि वहां पुराने पांच सौ तथा एक हजार रूपये के नोट स्वीकार किये जा रहे है। इसके अलावा पेट्रोल पम्पों पर भी वाहन चालक पहुंच रहे है ताकि अपने पास पड़े पुराने नोटों को खपाया जा सके।

नोटबंदी के समर्थन में उतरे नीतीश कुमार

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -