इस मंदिर के दर्शन के लिए दौड़ पड़े थे जुकरबर्ग और स्टीव जॉब

Mar 14 2018 03:57 PM
इस मंदिर के दर्शन के लिए दौड़ पड़े थे जुकरबर्ग और स्टीव जॉब

दुनिया में भारत ही एक ऐसा देश है जहाँ सबसे ज्यदा मंदिर मौजूद है शुरू से ही अध्यात्म से जुड़ा होने के कारण भारत विदेश में आस्था का केंद्र माना जाता है इसे ऋषि मुनियों की भूमि भी कहा जाता है यहाँ कई प्रसिद्ध तीर्थ स्थान व मंदिर है जो देश विदेश के लोगों को अपनी तरफ आकर्षित करते है. भारत अपने प्राचीन मंदिरों और शक्तिपीठों के लिए विदेश में भी प्रसिद्ध है जिसके कारण वहां के लोग भारत दर्शन के लिए यहां आते है और आस्था के धागे में बांध जाते है.

भारत के यह मंदिर सभी व्यक्ति को मानसिक व आध्यात्मिक शांति प्रदान करते है यहाँ मंदिरों की बहुलता होने के कारण और देवों से सम्बंधित होने के कारण भारत को देव भूमि भी कहा जाता है. ऐसे तो भारत के सभी स्थान किसी न किसी देवी या देवता से सम्बंधित है किन्तु भारत में उतरांचल का बहुत महत्व है यहां की भूमि कई ऋषियों के घोर तप की साक्षी है और यहाँ के तीर्थस्थल बद्रीनाथ, केदारनाथ, हरिद्वार, जागेश्वर आदि देश ही नहीं विदेशों में भी अपना महत्वपूर्ण स्थान रखते है.

इन्ही प्रसिद्ध मंदिरों में एक मंदिर है जिसे कैंची धाम के नाम से जाना जाता है जो नैनीताल जिले में स्थित है इस मंदिर का निर्माण नीम करौली बाबा ने करवाया था जिन्हें हनुमान जी का अवतार माना जाता है इस मंदिर की खासियत है कि यहाँ आने वाले सभी भक्तों की मनोकामना पूर्ण होती है जिसके कारण देश विदेश से कई लोग यहाँ आते है. और इसी वजह से फेसबुक के फाउंडर मार्क जुकरबर्ग और एप्पल के को-फाउंडर स्टीव जॉब भी भारत भ्रमण के दौरान अपने आपको इस मंदिर में जाने से नहीं रोक पाए थे.

हिमाचल के शिव मंदिर में रजनीकांत ने की प्रार्थना

इस विशेष मंदिर में भाई यम के साथ बहना भी विराजित है

इस चमत्कारी मंदिर में स्नान करने से व्यक्ति होता है रोग मुक्त

विदेश यात्रा का सपना आप भी कर सकते है ऐसे साकार